इंसानी ज़ज्बात जब खुद व खुद शब्द ग्रहण कर मानवीय अभिव्यक्ति बनकर फूटते हैं, निसंकोच ऐसी रचनाएं मन के बेहद करीब से गुजरती हैं | कुछ ऐसा ही सुखद एहसास देती हैं सुलोचना खुरानाकी यह कवितायें …. | संपादक 

आज की लड़की  sulochna

खुशनुमा बेखौफ़ लड़की
कजरारे नयनो से
बंद होठों से-
मुस्कुराते हुए
कहती है-
आज़ाद हूँ मै—-
स्वच्छंद हूँ मै–
मेरे सपने-
मेरे अपने हैं !
आसमाँ को छूने का-
दम भरती हूँ—
थाम सकोगे अब-
उँगली मेरी तुम-
बेझिझक–
बोझ नहीं मै—-
श्रवण से मजबूत
कंधे ना सही–
अपने परों-पे बिठा के–
सपने सज़ा के–
तुम्हें जहाँ दिखाने वाली-
परी हूँ मै—–
पहचानो तो ??
वो ही तुम्हारी–
भरे नयनो से गिरती-
बोझिल नीर की –
बूँद हूँ मै——-

जज्बात

बर्फ से ठंडे ज़ज्बात
लफ़्ज़ों की गर्मी से

कभी पिघलते नहीं–

शीशे की चादर के भीतर
घटित होती हुई- होनी
कभी टलती नहीं–
इस तरफ का वक्त,अटूट सख़्त
उस तरफ की दुहाई को
कभी सुनता नहीं–
गुज़रता है- मौसम का कारवाँ
बहे नदी- सूखे ज़मीं -चट्टाने
कभी यूँ ही फिसलती नहीं–
देखते ही देखते ढलती है नज़र
पर- दूर नज़ारों का सफ़र तो
कभी कम होता नहीं—-!

जिंदगी

जिंदगी-अगर होती
एक कहानी-
पढ़ी हुई !!
कुछ पुरानी
जन्म- जन्मो की
भूली हुई–
एक याद अन्जानी !

हौले- हौले सरकते पन्ने-
यादों के झरोखों से
निकलते- तैरते
ख्वाब बनकर- उभर कर
नज़दीक आते !
आने वाले
उजालों-अंधेरों का पता
यक़ीनन बताते !!

परतों मे चलती-
जिंदगी का अंजाम कभी
रहस्य ना होता
अंतिम पन्ना भी- कभी
यूँ -बदहवासी सा
भविषय ना होता !!
परंतु ये जिंदगी
एक पढ़ी हुई-
कहानी नहीं !
नित नये-
पन्ने पलटती-
रूठती मनाती
हैरान करती
खूबसूरत जिंदगानी है

टूटे मोती

जिनका कोई दिन नहीं
रात नहीं
उनकी शामें -सहर क्या??
खाक सही___

टूट कर गिर जाते हैं
जब पत्ते
उनके लिए जमीं क्या??
शाख सही___

दर-ब-दर किनारों पे
जो अटक जातें हैं
उनके सहारे क्या??
वो अजनबी अनजान
ही सही ___

जिंदगी का फलसफा
समझते समझते
सर से ताज गिरा
तो क्या??
अब टूटे मोती की
किरकिच ही सही___

जाने कैसे पार लगेगी
किश्ती-है टूटी पतवार
तो अब बहे_ नाव क्या ??
चलो_ कुछ दूर ही सही

  • author's avatar

    By: सुलोचना खुराना

    कविताएँ -कुछ मैगज़ीन मे ,भोपाल के ई- पेपर मे प्रकाशित
    देश -विदेश की यात्राएँ की ,जिसके कारण प्रकृति की पूर्ण आभा देखने का सुअवसर मिला-जिसे शब्दों मे ढालने की कोशिश है-सुख -दुख के भी बहुत अनुभव हुए जिनसे कविता अछूती नही रह पाई!
    अध्यापिका

  • author's avatar

  • author's avatar

    See all this author’s posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.