इस अत्यंत ज्वलनशील विषय पर इतनी रोचक और साफसुथरी कलात्मक लेकिन गंभीर चिंतन को विवस करती कहानी …..

pramod-beria         प्रमोद बेरिया

एक अश्लील कहानी

उसे याद है ,हुबहू ,वैसे का वैसा – सब के सब जमा थे ,एक जर्जर होते मकान का बचा हुआ कमरा ,चुना गया था ,इस काम के लिए । क़स्बे में ऐसे क्षण चरम उत्तेजना के होतें हैं ,सो सभी अंदर ही अंदर काँप रहे थे ,सिहर रहे थे कि सबकुछ खुलने वाला है ,हालाँकि ज़्यादातर लोगों के लिए यह कोई रहस्य तो नहीं था ,लेकिन जुगुप्सा असीम थी और उस आती अनजान आँधी का अंदेशा भी था ! वे सारे अधेड़ सीढ़ियों पर चढ़ रहे थे ,फिर भी सकपकाती अनुभवहीनता ने उन्हें पकड़ रखा था और लगता था कि बहुत कुछ जानना बाक़ी है ।
इस आग में पलीता लगा दिया हरिप्रसाद की सूचना ने । पहले भी हरिप्रसाद अपनी दुकान के माल के साथ और कुछ खास माल भी ले आता था ,जो वह कुछ खास दोस्तों को बेचता था ,और उनसे भी खास दोस्तों को देखने देता था ,वे संभोग रत युगल ,तिगल , चगुल ,यहाँ तक कि कुत्तों ,घोड़ों ,इत्यादि के अति वैज्ञानिक तकनीक से खींचे गए चित्र थे ,जो यहाँ इस क़स्बे में ,कुछ खास लोगों को ही हासिल थे ,और अगर कुछ लोगों तक यह ख़बर जाती भी तो इससे उनका सामाजिक रुतबा अंदर ही अंदर बढ़ने लगता था ।
सो हरिप्रसाद यह काम गाहे ब गाहे अपने सामाजिक कर्तव्य की तरह ही करता था और जैसे कोई कविता लिख कर ऐसी जगहों में फुसफुसाती लोकप्रियता हासिल कर लेता है ,वैसे ही हरिप्रसाद भी लोकप्रिय हो चला था । सो उसे लगा होगा कि और लोकप्रिय हुआ जाए तो एक दिन उसने टोली में ऐलान किया कि सोलह एम एम का प्रोजेक्टर लाया है और फ़िलिम भी और यह ऐलान उसने किसी गुप्त हमले की तरह अपने खास दोस्त महावीर से किया !जगह का तोड़ा था ,गुप्त दुरभिसंधियां थी और सूचना के विस्फोट की आशंका थी ,सो स्वतंत्रता संग्राम में जैसे अस्त्र जमा किए जाते ,वैसे ही तीव्र ,लेकिन एक दूसरे को रोकते हुए ,वे सारे सरंजाम जमा किए गए और बाहर के हिस्सों में चल- फिर कर जाँच परख लिया गया ।
कुछ लोग तो समय से पहले ही पहुँचने लगे थे और कुछ चाह कर भी यह दिखाते हुए कि उन्हे कोई उत्सुकता नहीं थी ठीक याने ऐन समय पर पहुँचने लगे थे । जो बचा हुआ कमरा था ,उसे बंद करने के बाद प्रोजेक्टर की रोशनी मे हल्का- सा उजास हुआ और सबके पसीने से चमकते चेहरे नजर आने लगे । बहरहाल वहाँ प्रोजेक्टर को चलाने की सीमित योग्यता हरि में ही थी सो थोड़ी- सी खटखट के बाद वह चल गया और सादे काले में चरम व्युत्पियां होने लगी और ज़ुबान पर लगाम लगाए सब लपलपाते आनंद में विभोर होते जा रहे थे और कई तो लथपथ हो गए थे और कई ,जिनमें महावीर प्रमुख था ,ऐसे कृत्य को धिक्कारते भी जा रहे थे ।
बाद में महावीर कईबार वह प्रोजेक्टर हरि से अपनेघर भी ले गया ,अकेले देखने के लिए ।
॥॥॥॥॥॥
क़स्बे में एक नई संस्कृति का ऐलान होने लगा ,सभ्यता का विकास होते- होते अब ये सब आनंद सहज होते जा रहे थे और हरिप्रसाद पस्त हो गया और धार्मिक हो गया ,सो अब जो नए ज़माने के औज़ार थे सीडी इत्यादि वह कुछ अमीर और कुलीन लोगों के घरों में पाए जाने लगे । और बहुतायत में पाए जाने लगे ,लगता कि रात के ये कार्यक्रम ही रहते थे । ,दिन में वे समाज और राजनीति की बातें करते ,देश के बिगड़े हालात पर बातें करते और रातें रंगीन होती ।
महावीर साधारण- स्थिति का आदमी था ,जिसके साधन तो सीमित थे ,लेकिन अरमान पहाड़- से थे ,पिचकी हुई ही आर्थिक स्थिति थी ,उसे उस ज़माने से लत लग गई थी ,कोई नर्गिस का दीवाना था ,कोई रेखा का ,लेकिन महावीर बिना नाम की नायिकाओं का दीवाना था जो उसे असंभव अदाओं में करतब दिखाती और वह उसे सच मानने लगा था ।उसकी पत्नि तो बेचारी सरल भारतीय पत्नि थी जो पति परमेश्वर की धारणाओं में रची बसी रहती है और उसकी आज्ञा शिरोधार्य रहती है ,सो वह तो बेचारी जैसे महावीर कहता करती रहती थी ,उसे वैसे मज़ा कभी नहीं आया जैसा कि महावीर महसूस करता था ,और न ही वो अद्भुत ,भदेस और विकृत कलाबाज़ियाँ उसे अच्छी लगती थी ,वह तो उसे खुश करने साथ भर देती थी । सब हो चुकने के बाद वह उसे न तो कोई स्मृति रहती और न ही कोई रोमांच ! तीन बच्चे पैदा कर वह ऐसे भी निचुड़ चुकी थी ,उसे ऐसी अदाओं में कुछ नजर नहीं आता था ।
महावीर कौन- सा ज़हीन जवान गबरु था ,लेकिन सालों से इस षड़यंत्र में लिप्त होते- होते वह आदी हो गया था और निकल नहीं पा रहा था और रोज कुछ नया खोजता ,जो उसे ऐसे दृश्य दे पाते । उसे इधर में लगने लगा था कि उसकी पत्नि रेखा अब रेखा नहीं रही वह चरित्र अभिनेत्री हो गई है ,सो नायिका बदलनी चाहिए । पड़ोस की भाभीजी पर उसकी नजर थी ,लेकिन वह ऐसे संबंधों को अनुचित मानता था । क्या ग़ज़ब है कि दिन भर जो दिमाग़ के विस्तर पर औरतों के साथ लोटपोट खाते रहता ,उसे यह अनुचित लगता – यह उस चरम रूढ़िवादिता का दर्शन है जो नैतिकता की व्याख्या अपनी तरह करते जाता है !
अंतत: महावीर बग़ल वाली भाभीजी याने कमला को फँसाने में सफल हुआ ,क्योंकि भाभीजी को रेखा से कईबार वे सीडियां मिल चुकी थी और तार महावीर तक जाते ही थे । सो महफिल जमने लगी ,क्योंकि कमला के पति अक्सर बाहर जाते थे और रात अपनी थी ,महावीर को कौन बोले ,रेखा तो काम करती ,निचुड़ जाती और सो जाती ,घंटी बजती तो कपाट खोल देती ।
महावीर को उस अधेड़ होती हुई औरत में आनंद आने लगा । यह मर्द की कमाल की सीरत होती है कि उसे दूसरे की औरत जवान नजर आती है और मज़ेदार लगती है ,सो महावीर कमला पर फ़िदा रहता सामने फिलम चलती और वह उस अधेड़ होती औरत से अटखेलियाँ करता नहीं अघाता और वह औरत अपने पति को मन ही मन कोसते हुए जवान होते हुए भदभदाती रहती । एकाध महिने गुज़रे ।
यह समय गुज़रा ,तो महावीर वापस तंग नजर होने लगा । दरअस्ल उसे यह नहीं समझ में आ रहा था कि यह कोई लिप्त होने का सरूर नहीं है ,यह कोई ऐसा दरिया है ही नहीं जिसमें डूब कर रहा जा सकता है ,यह तो कीचड़ से लथपथ मेनहॉल है जिसमें गंदगी ही लिथड़ेगी ,वह इस लय को पकड़ नहीं पा रहा था और दूसरों को ज़िम्मेदार ठहराए जा रहा था ।
एक रात जब वह कमला को नोचचींथ रहा था और वह आहे भर कर साथ दिए जा रही थी ,कि हठात् उसने उसे परे हटाया ,मन में कहा – साली छिनाल कहीं की – उसे बग़ल के घर में पड़ी अपनी पत्नि रेखा की याद आई ,वह सोचने लगा कि सालों से उसके साथ षड़यंत्र करता रहा वह ,एक बार फिर वह बड़बड़ाया – हरामज़ादी कहीं की ,जो कि कमला के लिए कहा ,लेकिन वह समझ नहीं पाई ,बोली – क्या हुआ?
कुछ नहीं – महावीर बोला और कपड़े पहनने लगा । यह संबंध कोई ऐसा तो था नहीं जिसमें कमला कहती कि न जाओ सैंयां ,छुड़ा के बहिंया ,सो बोली – अरे हुआ क्या ?
महावीर बोला – जो बहुत पहले होना चाहिए था । वह कपड़े पहन चुका था । बाहर जाते हुए बोला – कपाट बंद कर लेना ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.