सुशील कुमार भारद्वाज

सुशील कुमार भारद्वाज

ओहदेवाले

सुधा बहुत परेशान थी| घर में शादी की बात छिड़ने के बाद से बबाल मच गया था | अंत में उसे मौसी याद आयी| अक्सर सामाजिक मुद्दों पर लिखने वाली मौसी बड़े ओहदे पर थी| समाज में अपना रुतबा रखने वाली मौसी लोगों की समस्याओं को सुलझाया करती थी | अनेक जोडो को परिणय सूत्र में बंधवाए थे | इसलिए इस मुसीबत की घडी में कोई साथ दे सकता था तो एक मात्र मौसी ही बची थी |सो आते ही मौसी से बोली – “बताओ मौसी , आज – कल के युग में भी कोई जाति – धर्म की बात करता है ?”
अचानक हुए सवाल को बिना सोचे अपने लय में मौसी बोली -” नहीं! मनुष्य का सिर्फ एक ही जाति होता है मनुष्यता का| बांकी सब तो इस दुनियां में रहने वाले लोगों ने अपने स्वार्थ के लिए जाति – धर्म का ताना – बाना बुन रखा है जिसका कोई मतलब नहीं है |”
अपने विचारों से मौसी के विचारों को मिलता देख सुधा फट पड़ी -” तो घर में मेरे विजातीय विवाह पर बाबेला क्यों मचा है? कोई इन दकियानुसी सोच वालों को समझाता क्यों नही है ? क्यों ये छोटी – छोटी बातों को बेबजह तुल देते हैं ?”
सारा माजरा समझते ही मौसी चुप हो गयी |थोड़ी देर की शांति के बाद मौसी समझाते हुए बोली – “ देखो, हर जाति–धर्म का अपना संस्कार होता है, जिसे बचाकर रखने की जिम्मेवारी भी इन्ही सामाजिक लोगों पर होती है |और विजातीय विवाह का सबसे अधिक असर संस्कार पर ही पड़ता है|”
– “लेकिन तुम तो कई की ऐसी शादी करवा चुकी हो | लोगों की सोच बदल रही है | विचारों में खुलापन आ रहा है |सरकार भी इसके लिए प्रोत्साहित कर रही है | मजे की तो बात ये है की सरकार सामाजिक और आर्थिक मदद भी दे रही है|फिर फालतू के बातों में क्या रखा है ?”
अब तक सारी बातों को गौर से सुनने वाली मौसी दुलारते हुए बोली – “अरी पगली ! तुम किन बातों के चक्कर में पड़ी हो | अपनों और दूसरों में फर्क होता है की नहीं | और हर जो बात कही जाय उस पर खुद भी अमल किया जाय यह कोई जरुरी थोड़े न है | फिर तुम क्यों राजनीति और सरकार को निजी जीवन में ला रही हो? राजनीति में जो बात कही जाये वही हो, कोई ज़रूरी तो नहीं |चुनाव के वक्त देखती नहीं हो वे किस तरह एक दूसरे को कोसते हैं और फिर बाद में एक हो जाते हैं | इसलिए इन चीजों के पीछे मत सोचो |”
अपनी बात जमती न देखकर सुधा बोली – “वैसे भी शादी के बाद लड़की तो लड़के के ही जाति–धर्म की हो जाती है और बच्चों को भी इसका लाभ मिल जाता है |”
मुँह बनाते हुए मौसी बोली -“इतने के लिए तुम खानदान की नाक कटवाओगी ?”
सुधा बेबस होकर कही -“लेकिन मौसी तुमने भी तो विजातीय शादी ही की हो| कम से कम तुम तो ….”
बात पूरी होती उससे पहले ही मौसी गुस्से से तमतमा गई – “चुप रहो| तुम अपने आपको समझती क्या हो ? शादी का मतलब भी समझ में आता है ? किससे शादी करनी चाहिए और किससे नहीं इसका फर्क तुम्हे मालूम है ? चली आयी मुँहउठा कर| ……. और तुम मुझसे बराबरी करने की सोच रही हो ? तुम जानती हो मैं कितने बड़े ओहदे पर हूँ ? पता है मैंने कितने बड़े ओहदे वाले से शादी की है ? कितने उसके पास धन संपत्ति है ?… तुम्हारे जैसे किसी राह चलते लफंदर को पसंद नहीं किया है | क्या है उसके पास जिसके लिए तू खानदान के नाम को मिटटी में मिलाना चाहती है? बता क्या है उसके पास ?
सुधा मौसी के रौद्र रूप को देखकर सहम गयी | उसे कुछ जबाब न सुझा | और फिर निराश मन से अपने घर चली आयी यह सोचते हुए की मनुष्यता, संस्कार, ओहदे, और खानदान के मायने क्या हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published.