मानवीय प्रेम को रचनात्मक अभिव्यक्ति प्रदान करतीं विमलेश त्रिपाठीकी तीं कविताएँ …..

किसी ईश्वर की तरह नहीं 

विमलेश त्रिपाठी

विमलेश त्रिपाठी

मेरी देह में सूरज की पहली किरणों का ताप भरो
थोड़ा शाम का अंधेरा
रात का डर भरो मेरी हड्डियों में

हंसी का गुबार मेरे हिस्से की कालिख में
उदासी की काई मेरी उजली आत्मा पर

किसी ईश्वर की तरह नहीं
एक मामूली आदमी की तरह मुझे प्यार करो।

प्रेम करना अंततः

मैं प्रेम करता हूं
और एक नाम के आगे लिखता हूं एक नाम
नाम लिखना प्रेम नहीं
प्रेम का अर्थ है जो मेरे घर के अहाते पर छुपकर बैठा रहता है

मैं पत्नी को प्रेम करता हूं

कभी कहता नहीं कि प्रेम करता हूं तुम्हें
प्रेमिका को सैकड़ों बार कहता हूं
कि तुम्हें प्रेम करता हूं
जबकि सच यह कि मैं नहीं करता उससे प्रेम

कविता में प्रेम लिखता हूं बार-बार
बार बार मिटाता हूं
मुझे साबित करना है कविता के प्रेम को सबसे अलहदा
अद्वितीय

कविता के प्रेम और सचमुच के प्रेम को एक करने की कोशिश में
छिल जाती आत्मा की त्वचा
होते जाते मेरे शब्द लहुलुहान

प्रेम करना अंततः एक खूब पतली पगडंडी पर
घने अंधेरे के बीच चलना निरंतर
अंतहीन
कहीं पहुंचने को नहीं
बार-बार लौटने को
ऐन उसी जगह
जहां से चलने की शुरूआत।

दरअसल

हम गये अगर दूर
और फिर कभी लौटकर नहीं आय़े
तो यह कारण नहीं
कि अपने किसी सच से घबराकर हम गये

कि अपने सच को पराजित
नहीं देखना था हमें
कि हमारा जाना उस सच को
जिंदा रखने के लिए था बेहद जरूरी

दरअसल हम सच और सच के दो पाट थे
हमारे बीच झूठ की
एक गहरी खाई थी

और आखिर आखिर में
हमारे सच के सीने में लगा
जहर भरा एक ही तीर

दरअसल वह एक ऐसा समय था
जिसमें बाजार की सांस चलती थी

हम एक ऐसे समय में
यकीन की एक चिडिया सीने में लिए घर से निकले थे
जब यकीन शब्द बेमानी हो चुका था

यकीनन वह प्यार का नहीं
बाजार का समय था

दरअसल उस एक समय में ही
हमने एक दूसरे को चूमा था

और पूरी उम्र
अंधेर में छुप-छुप कर रोते रहे थे।

  • author's avatar

    By: विमलेश त्रिपाठी

    बक्सर, बिहार के एक गांव हरनाथपुर में जन्म
    देश की लगभग सभी पत्र-पत्रिकाओं में कविता, कहानी, समीक्षा, लेख आदि का प्रकाशन।
    हम बचे रहेंगे, एक देश और मरे हुए लोग, उजली मुस्कुराहटों के बीच, कविता संग्रह,
    अधूरे अंत की शुरूआत, कहानी संग्रह, कैनवास पर प्रेम, उपन्यास
    आमरा बेचे थाकबो ( कविताओं का बंग्ला अनुवाद)
    वी विल विद्स्टैंड ( कविताओं का अंग्रेजी अनुवाद)
    भारतीय ज्ञानपीठ का नवलेखन पुरस्कार
    ठाकुर पूरण सिंह स्मृति सूत्र सम्मान
    भारतीय भाषा परिषद युवा पुरस्कार
    राजीव गांधी एक्सिलेंट अवार्ड
    परमाणु ऊर्जा विभाग के एक यूनिट में कार्यरत।
    संपर्क: साहा इंस्टिट्यूट ऑफ न्युक्लियर फिजिक्स,
    1/ए.एफ., विधान नगर, कोलकाता-64.
    Email: bimleshm2001@yahoo.com/ starbhojpuribimlesh@gmail.com
    Mobile: 09088751215

  • author's avatar

  • author's avatar

    See all this author’s posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.