हमरंग पर सूरज प्रकाश द्वारा लिखित विशेष व्यन्ग्यालेख ‘किस्से किताबों के’ की तीसरी क़िस्त –

किस्‍से किताबों के – किस्‍सा पाँच

sooraj-prakash

सूरज प्रकाश

बिना किताबों वाला घर-

ये किस्‍सा एक प्रसिद्ध बांग्‍ला उपन्‍यासकार का है। उनकी बेटी बड़ी हुई तो कई अच्‍छे अच्‍छे रिश्‍ते आने लगे। ऐसा ही एक रिश्‍ता दूर कस्‍बे में बसे एक बहुत बड़े जमींदार के घर से आया। हमारे उपन्‍यासकार महोदय अपनी पत्‍नी के साथ घर-बार देखने ट्रेन से गये। स्‍टेशन पर शानदार बग्‍घी लेने आयी थी। आगे-पीछे चार घुड़सवार। जमींदार के महल में दोनों की बहुत खातिरदारी हुई। किसी किस्‍म की कोई कमी नहीं। शानौ-शौकत सब आला दरजे की। सैकड़ों बीघा खेत, नौकर चाकर, हाथी घोड़े और दुनिया भर के ऐशो-आराम का इंतज़ाम।
वापसी में दोनों को कीमती उपहारों से लाद दिया गया। ट्रेन चली तो उपन्‍यासकार की पत्‍नी बेहद खुश हो कर बोली – घर बैठे हमें कितना अच्‍छा वर और घर-बार मिल रहा है। हमारी बेटी के तो भाग खुल गये। बेटी राज करेगी हमारी।
उपन्‍यासकार महोदय तुनक कर बोले – राज तो तब करेगी जब हम इस घर में उसकी शादी करेंगे।
बीवी चौंकी – क्‍या मतलब? क्‍या कमी नज़र आयी आपको इस घर में। सब कुछ तो आला दरजे का था।
तब उपन्‍यासकार महोदय ने आराम से बताया – तुम दिन भर महल जैसे घर में रही। सब कुछ देखा-भाला। माना, वहां किसी भी चीज़ की कमी नहीं थी लेकिन भागवान, तुम्‍हीं बताओ, पूरे महल में तुम्‍हें एक भी किताब नज़र आयी?
तब उन्‍होंने ठंडी सांस भरते हुए कहा – हमारी बेटी सारी उम्र हज़ारों किताबों के बीच बड़ी हुई है। बिना किताबों वाले घर में तो एक दिन में पागल हो जायेगी।

ये किस्‍सा बलाई चंद मुखोपाध्‍याय ,(1899-1979) का है जो बनफूल के नाम से लिखते थे। वे उपन्‍यासकार , नाटककार कवि थे। उनके उपन्‍यासों पर कई फिल्‍में बनी हैं। भुवनसोम उनके उपन्‍यास पर ही बनी थी।

किस्‍से किताबों के – किस्‍सा 6 ”

ये किस्‍सा भी बांग्‍ला से – धारावाहिक उपन्‍यास – पाठक की चिंता

बांग्‍ला उपन्‍यासकार विमल मित्र (1912–1991) जितने प्रसिद्ध बांग्‍ला में थे, उतने ही चाव से हिंदी में भी पढ़े जाते थे। उन्‍होंने सौ भी अधिक उपन्‍यास और सैकड़ों कहानियां लिखी। उनके उपन्‍यास पर 1953 में साहिब बीवी और गुलाम पर फिल्‍म भी बनी थी और उन्‍हें सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍म लेखन के लिए फिल्‍म फेयर एवार्ड मिला था। वे कई बार अठारह अठारह घंटे तक लिखते रहते थे।

एक बार एक युवक उनसे मिलने आया और उनके पैर छू कर उनके पास बैठ गया और रोने लगा। ‘
वे हैरान हुए। पूछा- भाई तुम कौन हो और क्‍यों रो रहे हो। मैं तुम्‍हारी क्‍या मदद कर सकता हूं।
युवक ने कहा कि फलां पत्रिका में आपका एक धारावाहिक उपन्‍यास चल रहा है।
विमल जी ने कहा – हां चल तो रहा है।
युवक ने आगे कहा – उसकी नायिका एक बीमार युवती है।
विमल बाबू – हां है तो, फिर
युवक – उपन्‍यास की कथा जिस तरह से आगे बढ़ रही है, तय है कि अगले एकाध अंक के बाद आप नायिका को मार देंगे।
विमल बाबू – लेकिन पात्रों को जीवित रखना या मार देना लेखक के हाथ में थोड़े ही होता है। अब जैसी कहानी आगे बढ़े .. लेकिन तुम ये सब क्‍यों पूछ रहे हो और रो क्‍यों रहे हो।
युवक फिर रोने लगा – दरअसल मेरी बहन को भी वही बीमारी है जो आपके उपन्‍यास की नायिका को है। वह लगातार उपन्‍यास पढ़ रही है। अगर आपने नायिका को मार दिया तो मेरी बहन भी नहीं बच पायेगी। वह फिर से उनके पैरों पर गिर पड़ा – मेरी बहन को बचा लीजिये साहब। ‘

पुष्‍प कुमार शर्मा के सौजन्‍य से

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.