अगर जीवन में प्रेम न हो तो जिन्दगी बेज़ार हो जाती है | संसार की उत्पत्ति ही प्रेम की धुरी पर टिकी है | प्रेम के उसी  स्पंदन की खूबसूरत अनुभूति को सहज ही अनुभव कराती हैं  ब्रजेश कानूनगो की कवितायें ….. संपादक 

चाँद के टुकड़े 

ब्रजेश कानूनगो

ब्रजेश कानूनगो

शरमा रही है दूब कुछ ऐसे
अभी छूकर गया कोई जैसे
ओस पर लिख गया है अपना नाम
यह वही लिपि है शायद
जिसमें लिखी जाती धड़कनों की भाषा
शब्दों के अर्थ सामनें हैं बे-आवाज
एक राग सुनाई देता है गुम्बद की हवा में
घंटियों की गूँज पर सवार उड़ गई
कोई चिड़िया अभी-अभी
आईना था चांदनी का जलाशय
एक फल आ गिरा अचानक शहद भरा
थिरकने लगे चाँद के टुकड़े
तरंगों की कमर में बाँहें डाले.

खाता बही में प्रेम 

चांदनी में नहाए
किसी ख़ूबसूरत लम्हे में
लाड में आकर तुम कहीं पूछ बैठो
कितना प्यार मिला जीवन में ?
तो क्या कहूंगा मैं !
दुनियादारी के खाता-बही में
आधी सदी तक प्रविष्टियों के उपरांत
कभी प्यार का कोई रिकार्ड नहीं संजोया बेशक
मगर जो मन की एक किताब है उसमें
हर पन्ने पर सबसे पहले
स्वतः दर्ज हो जाता है तुम्हारा प्रेम
इतनी बड़ी हो गयी है पूंजी
कि बही-खाते की रेखाओं से बाहर निकल रहे हैं आंकड़े
समुद्र के आयतन से कुछ अधिक हो गया है उसका मान
धरती के घनत्व से ज्यादा सघन है यह अर्जित प्रेम
संभव ही नहीं शायद
तुम्हारे प्रेम का हिसाब रखना
आकाश जितने अगले पन्ने पर
दर्ज नहीं हो पा रहा मुझसे पिछला बाकी.

प्रेम में गणित

सवालों को हल करते हुए
जो बीज गिर जाता है बीच में
वह गणित नहीं है
नीली स्याही में इन्द्रधनुष खिलता है कागज़ पर
अंकों के पीछे नहीं
आगे लगते हैं शून्य
शून्य का मान शून्य से भी हल्का
जैसे फूल की पँखुरी
सुनसान किनारे तक जाकर ठहर जाती हैं रेखाएँ
त्रिभुज में रूपांतरित होने लगते हैं आयत
त्रिभुज तो जैसे दिल में बदल जाने को बैचेन बैठे होते हैं
आकृतियों को गुलाबी होने में देर नहीं लगती बिलकुल
संतूर की तरह बजता है गणित
प्रेम के राग में.

पांच हजार शामों वाली लड़की

ज्येष्ठ की तपन भी
साँझ की बयार में बदल जाती है
दोपहर को जब चली आती है
पांच हजार शामों वाली लड़की.
रात तो फिर रात ही है.
न जाने कितनी सदियों से
दुनिया के अँधेरे से लड़ते हुए
प्रेयसी कहें पत्नी कहें या माँ कह लें
बहन या बेटी होकर भी यही करती रही
कहीं और जाकर भी
दिया जलाती रही
रोशनी से जगमग करती रही सबका संसार
पांच हजार शामों वाली लड़की.
यूँ तो बहुत हैं जमाने में
खैर खबर लेने वाले
जब रात को अकड़ जाती है कमर
पांच हजार दोस्त नही
वही होती है चिंतित
पांच हजार शामों वाली लड़की.
रहस्य ही है अब तक
पांच हजार हमारी शामों को
ख़ूबसूरत बनाती लड़की के दुःख
ख़त्म नहीं होते
पांच हजार नई सुबहों के बाद भी.

प्रेम कविता का मौसम 

ऊब, तपन और थकान से भरे
मौसम में भी
प्रेम कविता ठंडक देती है
ऐसा नहीं है कि गर्मियों में पिघलकर
रूह-अफजा में तब्दील हो जाती है कविता
प्रेम की बात हो तो हर मौसम
बसंत में बदल जाता है
ज्यादा अर्थ नहीं रखता
मौसमों का विभाजन
प्रेम कविता में डूबे व्यक्ति के लिए
चार कहें पांच कहें
या छः निर्धारित कर लें इनकी संख्या
एक ही होता है केवल ’प्रेम का मौसम’
सारे विशेषण जैसे प्रेम का पर्याय कवि के लिए.
ज्यादा से ज्यादा
इतना होता है सुविधा के लिए
कि मौसम दो ऋतुओं में बंट जाते हैं
कुछ महीनें मिलन के
और थोड़े से वियोग के समझ लीजिये
गौर करें आप
कि वेदना में सींचता है कविता की जमीन आंसुओं से
और जब आती है मिलन ऋतु
खूब लेता है कवि फूलों का मजा
यह वही मौसम है कमबख्त
जो पसीने की तरह रिसता रहता है देह से
भिगोता है बरसात में तन-मन
फूलों की तरह खिलता है
और खुशबू की तरह बिखर जाता है
प्रेम कविता में.

अनंत किस्सा 

साभार google से

साभार google से

दरअसल किस्सा वहीँ से शरू हुआ
जब प्रेम में भीगे दो मनुष्यों का मिलन हुआ
और आबाद होने लगी ये दुनिया
दो पत्थरों का प्रेम ही था वह शायद
जो चमक उठा था घर्षण के साथ
पानी के निर्माण से पहले
आक्सीजन और हायड्रोजन में भी
प्रेम की आहट हुई होगी जरूर
बीज को मिटटी और नमी का जब मिलता है प्रेम
तो धूप में हरी पत्तियाँ निकल आती हैं
रसों के मिलन के बाद खिल ही जाते हैं फूल
दरकने लगते हैं पहाड़
जब कम होने लगता है प्रेम
बस्तियां जलने लगती हैं
तटबंध टूट जाते हैं
विश्वास बह जाता है सारा
जारी रहेगा जीवन का यह किस्सा
धड़कता रहेगा जब तक प्रेम अनंत
नष्ट नहीं होगी यह ख़ूबसूरत दुनिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.