चुनाव को हम सभी ने बुलेट और बटन तक सीमित कर दिया है। पिछले कुछ समय में बड़े शहरों में वोट कास्टिंग बढ़ी है पर भारत केवल दिल्ली-मुम्बई-बेंगलोर नही है। ठेठ गांव तक जाकर लोगो के वोट करने के पीछे कारण भी हमें जानने होंगे। हम सभी अपने वोट का इस्तेमाल अपना जीवनस्तर सुधारने के लिये कर रहे हैं या फिर केवल सत्ता के चेहरे बदलने के लिए कर रहे है |….

‘न्यूटन’ फिल्म नहीं एक विचार प्रक्रिया…

नवलकिशोर व्यास

अमित मसूरकर की फिल्म न्यूटन का विचार अदभुत और पावन है। यह लोकतंत्र के सबसे बड़े उत्सव कहे जाने वाले चुनाव और देश के दूरदराज, मुख्य धारा के शहरों से दूर बैठे उस आम वोटर की पूरी की पूरी एक विचार प्रक्रिया है। फिल्म की कहानी कहने भर को इतनी सी है कि छतीसगढ में नक्सलवाद से प्रभावित एक छोटे से पोलिंग बूथ में मतदान होना है जिसके लिये (न्यूटन) राजकुमार राव, रधुबीर यादव और अन्य लोगो की सरकारी ड्यूटी लगती है। सुबह नौ बजे से तीन बजे तक के इस मतदान के समय के बहाने फिल्म लोकतंत्र से शुरू होती है और जन के मन तक पहुँच जाती है। यहां ये बताना बेहद जरूरी हो जाता है कि हिन्दी सिनेमा ने इससे पहले कभी चुनाव प्रक्रिया पर फिल्म नही बनाई है। हिन्दी सिनेमा में चुनाव का मुख्य विषय चुनाव जीतना और हारना से लेकर इसमें किये जाने वाले जोड तोड, भ्रष्टाचार और दूसरे तथ्यों पर ध्यान दिया है। इस बार सिनेमा पहली बार पोलिंग बूथ के अंदर घुसा है। फिल्म का तनाव दरअसल इस बात पर है कि उस बूथ के सत्तर से ज्यादा लोगों के वोट कास्ट किये जायें जबकि तनाव इस पर आकर खत्म होता है कि क्या लोकतंत्र का मतलब हम सभी ने ज्यादा से ज्यादा वोट कास्टिंग और शांतिपूर्ण मतदान से मान लिया है जबकि लोकतंत्र तो वास्तव यह होना चाहिए कि सरकार या उम्मीदवार ये जाने कि उस इलाके में रहने वाले लोगों की समस्याएं क्या है। उसकी अपने प्रतिनिधि से क्या उम्मीदें है और क्या उसने चुनाव जीतने के बाद वो सब किया जाता है, जो उसने वादा किया था। फिल्म में एक जगह जब न्यूटन आम लोगों से पूँछता है कि तुम अपने जनप्रतिनिधि से क्या चाहते हो तो आम आदमी का जवाब मिलता है कि क्या वह उसकी फसल का सही भाव उसे दिला देगा। आजादी के सत्तर साल बाद भी अगर आम जन को, सरकार ये बुनियादी जरूरतें ही नही दे पा रही है तो फिर इस देश में बुलेट ट्रेन की बात करना गरीबों का जमकर उडाया गया मजाक लगता है। मजाक ये भी है कि आज तक आम वोटर को अच्छे उम्मीदवार तक नही मिलते जिसका नतीजा यह है कि वोटर को अच्छे या बुरे में से एक नही चुनना होता। दरअसल उसे बुरे और कम बुरे में से एक चुनना होता है। चुनाव को हम सभी ने बुलेट और बटन तक सीमित कर दिया है। पिछले कुछ समय में बड़े शहरों में वोट कास्टिंग बढ़ी है पर भारत केवल दिल्ली-मुम्बई-बेंगलोर नही है। ठेठ गांव तक जाकर लोगो के वोट करने के पीछे कारण भी हमें जानने होंगे। हम सभी अपने वोट का इस्तेमाल अपना जीवनस्तर सुधारने के लिये कर रहे हैं या फिर केवल सत्ता के चेहरे बदलने के लिए कर रहे है, जैसा कि फिल्म में एक जगह रघुवीर यादव कहते भी हैं कि इस देश में चुनाव केवल पोस्टर से चेहरे बदलने के लिए कराए जाते हैं। हम आम आदमी के जीवन में सत्ता बदलने पर कोई महत्वूपर्ण बदलाव आता है या नही, ये जानना बेहद जरूरी है।

साभार google

कहीं ऐसा तो नही है कि हम सभी लोकतंत्र और आदर्श की बातों की जुगाली करते जौम्बी बन गये है। जौम्बी की तरह चुनाव तो नही हो रहे है। जौम्बी की तरह वोट कास्ट और जौम्बी की ही क्या हम लोग भक्ति या विरोध तो नही करने लगे हैं। क्या हमारे विचार खत्म होते जा रहे हैं। न्यूटन बेहद महत्वपूर्ण घटना है जो समझने लायक है। सहेजने लायक है।

हम फिल्म के तकनीकी पक्ष की बजाय इसके विचार में घुसने की जरा कोशिश करते हैं। एक आदर्शवादी किरदार न्यूटन जो हर स्थिति में भी ईमानदार और सही रहना चाहता है। ऐसे बहुत से देश में युवा होंगे जो सिस्टम में है या सिस्टम से बाहर है और इस तरह का अपना संघर्ष कर रहे हैं। एक पुलिस अधिकारी आत्मा सिंह का चरित्र है जो सही गलत का न सोचकर परिणाम के बारे में सोच रहा है। एक अपने रिटायरमेंट के नजदीक पहुंचा सरकारी बाबू है, जो अपनी नौकरी के आखिरी चुनाव में ड्यूटी दे रहा है और एक दूसरा बाबू जो कि केवल इसलिये नक्सलवाद से प्रभावित इलाके में चुनाव ड्यूटी को पहूँचा है क्योंकि उसको केवल हेलीकॉप्टर में सफर करना है। न्यूटन के अलावा सभी एक प्रोसेस फॉलो कर रहे हैं, जबकि न्यूटन कुछ अलग नही कर रहा। दअरसल वो वही कर रहा है जो उसकी ड्यूटी है।। इस देश में ईमानदारी से अपनी ड्यूटी करना भी व्यवस्था विरोध हो गया है। पहले ही दृश्य में चुनाव प्रचार के सीन में एक-एक फ्रेम में लोगों के चेहरे देखिये। कुछ गुलाल रंगे समर्थन में। कोई मोबाइल रिकार्डिंग में। कुछ हैरान परेशान और बाकी सभी तटस्थ। बिना किसी भाव के। ऐसा लग रहा है कि तटस्थ वाले वो लोग है जो अब इस प्रक्रिया से बेहद उदासीन हो चुका है। चुनाव और सत्ता इनके लिये रस्म अदायगी रह गई है। सत्ता और चुनाव की हवाबाजी में हम हमेशा से कलर ब्लाइंड रहे हैं, पर क्या अब हम काले और सफेद के बीच का फर्क तक करना भूल गये है।

अमित मसूरकर और मयंक तिवारी ने इस पटकथा को फिल्मी नही बनाया है। इसे बेहद जिम्मेदारी से लिखा है और गंभीर सिनेमा बनाया है। सब कुछ हमारे सामने घटता हुआ दिखता है। बिना गोलियों की आवाज के, बिना किसी तरह की हिंसा दिखाए फिल्म उस माहौल के तनाव को बहुत अच्छे से दिखाती है। फिल्म ब्लैक हयूमर है और इसके वन लाइनर तो और भी उम्दा है। चुटीली है, हंसाती है और बहुत बार तिलमिला भी देती है। अभिनेता राजकुमार राव, पंकज त्रिपाठी और रधुबीर यादव ने बहुत उम्दा काम किया है। बेहद संयमित होकर बात कही है सारी। ये सभी प्रतिभायें देश की धरोहर है। अभिनय आसान नही होता पर ये करते है तो लगता है कि आसान ही होगा। फिल्म आस्कर के लिये भारत की अधिकारिक एंट्री है और नेकनीयती से बने इस सिनेमा को सभी दुआएं है। अंत साहिर के शेर के साथ। हम सभी के लिये जो आज तक इस चुनाव प्रणाली के बहाने छले ही जा रहे है।
*हमीं से रंग-ए-गुलिस्तां, हमीं से रंग-ए-बहार/ हमीं को नज्म एं गुलिस्तां पे इख्तियार नही*

Leave a Reply

Your email address will not be published.