परसाई का मुँह काला कर दिया जाता……: आलेख (हफीज़ किदवई)

परसाई की कलम बिलकुल घिसीपिटी नही थी। उसमे एक चमक थी। धार थी। जो किसी भी बुराई को काटने की ताक़त रखती। कविता, कहानी, उपन्यास, लेख सबमे परसाई ने खूब काम किया। अपने आखरी दिनों तक वह सिर्फ और सिर्फ लिखते रहे। वह भी ... Read More...

क्या समय है…? परसाई के पुनर्मुल्यांकन का: आलेख (एम० एम० चंद्रा)

"इस बात को हम अच्छी तरह से जानते है की परसाई अपने युगबोध को साथ लेकर चल रहे थे. जब हम परसाई का मूल्यांकन करेंगे तो हमें वामपंथ के वैचारिक पक्ष पर भी बात करनी पड़ेगी, पार्टी संगठन और अपनी आलोचना और आत्मालोचना से ... Read More...

पुल गिरा है कोई पहाड़ नहीं : व्यंग्य (आरिफा एविस)

सरकार तो आती जाती है आज ये है कल वो थी. लेकिन देश का विकास कभी नहीं रुकता क्योंकि सरकार और कम्पनी में अच्छा गठजोड़ है. ये तो देश की सेवा या लोगों की सेवा बड़ी मुस्तैदी और ईमानदारी से कर रहे थे. 2 साल के प्रोजेक्ट... Read More...

अहिष्णुता के अनेक चेहरे हैं : आलेख (नमिता सिंह)

उन्नीसवीं शताब्दी में शुरू हुए समाज सुधार आंदोलनों से जुड़ी विभूतियों को भी कम संकटों का सामना करना नहीं पड़ा। सती प्रथा के विरोध में आन्दोलनरत राजा राममोहन राय को अपने परिवार का त्याग करना पड़ा। उनके सहयोगियों ने... Read More...

मंगू का हिस्सा : कहानी (शक्ति प्रकाश )

अपने समय के यथार्थ घटनाक्रमों की जटिलताओं को तोड़कर सहज रचनात्मकता के साथ उतरना किसी भी रचना की पहली प्राथमिकता है | शक्ति प्रकाश की कहानियाँ, जीवन में साँसों की मानिंद महत्त्व रखती सामाजिक, राजनैतिक और आर्थिक घ... Read More...

जिस लाहौर नई वेख्या ओ जन्म्या ई नई उर्फ़ माई… : नाट्य समीक्षा (शक्ति प्रकाश )

दो दिवसीय नाटक 'माई' (जिस लाहौर नहीं वेख्या ...) का  सफलता पूर्वक मंचन ........ | जिस लाहौर नई वेख्या ओ जन्म्या ई नई उर्फ़ माई... शक्ति प्रकाश कल मदार बंधुओं, हनीफ साहब, गनी साहब और सनीफ साहब के आमन्त्रण प... Read More...

सिर्फ ‘तुम’: एवं अन्य कविताएँ (भूपेंद्र ‘भावुक’)

इंसानी हालातों के ज़ज्बाती चितेरे भूपेंद्र 'भावुक' की कविताएँ......... सिर्फ 'तुम'  भूपेंद्र भावुक हाँ सिर्फ 'तुम' हीं तो हो यहाँ वहाँ इसमें उसमें मुझमें सबमें। और आज से नहीं जब 'तुम' मुझे- इस कद... Read More...

’ए गुड-सेकेण्ड बॉय : संस्मरण (पद्मनाभ गौतम )

बाजार की एक पुरानी पुस्तकों की दुकान पर रद्दी में इन्द्रजाल चित्रकथा के अंग्रेजी संस्करण के सैकड़ों पुराने अंक मिल गए थे। अपने प्रिय पात्र फैण्टम, मैंण्ड्रेक, रिप किर्बी, लोथार व गार्थ जिन्हें मैं हिन्दुस्तान-टा... Read More...

शेक्सपीयर मन के रचनाकार हैं: एक रिपोर्ट, (राजन कुमार सिंह)

शेक्सपियर ऐसे नाटककार थे जिन्हें आलोचकों ने भी माना कि वो वाकई में महान थे। अदृश्य को जानने की शक्ति कलाकार को महान बनाती है। वे अपने नाटकों के चरित्र खुद जीते थे। प्रकृति के प्रांगण में उन्होंने सीखा, उनके पास... Read More...

कबीर गायन की विविध शैलियाँ और उसकी संप्रेषणीयता: आलेख (रोहित कुमार)

कबीर को ज़्यादातर मालवा में ही गाया जाता है। कुमार गंधर्व एकमात्र ऐसे संगीतज्ञ हुए हैं जिन्होंने मालवांचल की बोली मालवी और उसके लोकगीतों को बंदिशों का स्वरूप दिया. उत्तरप्रदेश की अवधि का असर तो कई उत्तर भारतीय स... Read More...