बंदिशों में ‘सोशल मीडिया की स्त्री’: आलेख (अनीता मिश्रा)

निसंकोच हमारे समय और सामज ने तरक्की के कई पायदान और चढ़ लिए हैं ! तब सहज ही यह सवाल मन में आ खड़ा होता है कि क्या तरक्की में संवेदना के स्तर पर मानसिक वैचारिकी का कोई पायदान भी हम चढ़ पाए हैं ? इसके अलावा क्या इन ... Read More...

हिम्मत न हारना, मेरे बच्चो!: कहानी (मैक्सिम गोर्की)

पुरानी हड्डियों को ऐसे सीधा करने के बाद वह दरवाज़े के निकट एक पत्थर पर बैठा जाता है, जाकेट की जेब से एक पोस्टकार्ड निकालता है, पोस्टकार्ड थामे हुए हाथ को आँखों से दूर हटाता है, आँखें सिकोड़ लेता है और कुछ कहे बिन... Read More...

जन-गण-मन: एवं अन्य कविताएँ (विद्रोही)

3 जनवरी 1957 को फिरोज़पुर (सुल्तानपुर) उत्तरप्रदेश में जन्मे, रमाशंकर यादव 'विद्रोही' हमारे बीच नहीं रहे ... जैसे जे एन यू खाली हो गया है... जैसे फक्कड़ बादशाहों की दिल्ली खाली हो गयी है !! उनका बेपरवाह अंदाज़, फ... Read More...

निंदक नियरे: एवं अन्य कविताएँ (रूपाली सिन्हा)

लेखन और अध्यापन से जुड़ी "रुपाली सिन्हा" की कविताओं में सहज ही वर्तमान सामाजिक, मानसिक वातावरण जीवंत रूप में उठ खडा होता जान पड़ता है | आपकी रचनात्मकता महज़ विद्रूप देखने की आदी नहीं है बल्कि वह कारणों की पड़ताल कर... Read More...

यादों में ‘राजकपूर’ छलिया के बहाने: आलेख (एस तौहीद शहबाज़)

'राजकपूर' के जन्मदिवस पर फिल्म 'छलिया' के संदर्भों में फिल्म की सामाजिक और मनोरंजक पृष्ठभूमि को रेखांकित करते हुए राजकपूर की भूमिका को याद कर रहे हैं 'सैयद एस तौहीद'..... यादों में 'राजकपूर' छलिया के बहाने  ... Read More...