मुआवज़ा : कहानी (फरीदा ज़माल)

निसंदेह आतंकी या साम्प्रदायिक घटनाओं में जान गवांने वाले निर्दोष लोगों के परिवारों की इन घटनाओं के बाद की स्थितियां बेहद हृदय विदारक और अपूर्णीय होती हैं, लेकिन वहीँ वर्ग विशेष के लिए राजनैतिक हित स्वार्थों के ... Read More...

‘कही-अनकही’ कविता की : समीक्षात्मक आलेख (निलय उपाध्याय)

                                                                 जिएऔर लिखे के बीच का फ़र्क नीलकमल दिखे और लिखे से झांकने लगे पकडना मेरा गिरेबान मेरे गुनाहो का हिसाब लेना कभी दस्खत मत करना... Read More...

सिनेमाई स्त्री का विकास और इतिहास : आलेख (डॉ.यशस्विनी पाण्डेय)

परिवार और राष्ट्र की धुरी 'स्त्री' द्वारा दुनिया में लड़ी गई 'स्त्री मुक्ति और अस्मिता' की लड़ाई का इतिहास सदियों पुराना है | इन आंदोलनों के विभिन्न रूप और संदर्भों को दुनिया भर के कला, साहित्य ने न केवल खुद में ... Read More...

यादें.. एवं अन्य कवितायें : निवेदिता

जीवन के एकांत, भावुकताओं, टूटते बिखरते और फिर-फिर जुड़ते मानवीय दर्प के बीच से धड़कती संवेदनाओं के साथ गुज़रती हैं 'निवेदिता' की कवितायें | भावुक प्रेमिका, संवेदनशील माँ, अपने समय से संघर्ष करती आधुनिक स्त्री और प... Read More...

जस्‍ट डांस: कहानी (कैलाश वानखेड़े)

राजेन्द्र यादव कथा सम्मान २०१७  पाने वाली 'कैलाश वानखेड़े की कहानी "जस्ट डांस" विस्तार लिए महज़ एक कथा शिल्प न होकर वर्तमान वक़्त के सघन जाले से झांकती, विद्रोह से तपती, दमित  दलित आदिवासी आँखें हैं जो सचेतन वर्तम... Read More...

एक जिप्सी चितेरे का जीवन संघर्ष: (राजेश चन्द्र)

मुंबई के बीहड़ फुटपाथों पर रात गुज़ारते हुए हुसैन सिनेमा के होर्डिंग बनाने का काम शुरू करते हैं और उनकी गुमनामी के दिन तब समाप्त होते हैं जब वे 1947 में प्रोग्रेसिव आर्टिस्ट्स ग्रुप में शामिल होते हैं। फ्रांसिस न... Read More...

इनाम और ओहदे लौटाने से क्या होगा ? : आलेख ( विष्णु खरे )

"आज जिस पतित अवस्था में वह है, उसके लिए स्वयं लेखक जिम्मेदार हैं, जो अकादेमी पुरस्कार और अन्य फायदों के लिए कभी चुप्पी, कभी मिलीभगत की रणनीति अख्तियार किए रहते हैं। नाम लेने से कोई लाभ नहीं, लेकिन आज जो लोग दाभ... Read More...

पुरस्कार वापसी का अर्थ : रिपोर्ट (मंडलेश डबराल)

पुरस्कार वापसी का अर्थ मंडलेश डबराल साहित्य अकादेमी ने अगर अगस्त में कन्नड़ वचन साहित्य के विद्वान् एमएम कलबुर्गी की बर्बर हत्या की कड़े शब्दों में निंदा की होती तो शायद नौबत यहाँ तक नहीं आती कि देश की इतनी सा... Read More...

जरूर देखा है : गजलें (दिलशाद सैदानपुरी)

रंग मंच कि दुनिया में प्रवेश करने से पहले आपने ‘दिलशाद सैदानपुरी’ के नाम से गज़लें लिखना शुरू किया और यह लेखन का सफ़र आज भी जारी है | हमरंग के मंच से कुछ गज़लें आप सभी पाठकों के लिए, हमरंग पर आगे भी यह सफ़र जारी रह... Read More...

आवाज दे कहां है…!: कहानी (गीताश्री)

वह अपने डर को काबू में रखने की कोशिश करती पर किशोर मन में जो डर की नींव पड़ी थी, उस पर इतनी बड़ी इमारत बन चुकी थी कि वह चाह कर भी उसे गिरा नहीं सकती थी. उसे गिराने के लिए साहस की सुनामी चाहिए थी, जो हो नहीं सकती ... Read More...