गंभीर नाटकों की कमी को भरता ‘न हन्यते’: आलेख (अभिनव सव्यसांची)

12 अक्टूबर 2015 को जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय के कन्वेंशन सेंटर में 'संसप्तक' की नाट्य प्रस्तुति ‘ना हन्यते’ का समीक्षात्मक विवेचन कर रहे हैं 'अभिनव सब्यसाची' जो पेशे से पत्रकार हैं और स्वयं भी 15 सालों से थि... Read More...