खो जाते हैं घर : कहानी (सूरज प्रकाश)

यथार्थ से जूझती बेहद मार्मिक और संवेदनशील कहानी ….. वरिष्ठ साहित्यकार सूरज प्रकाश की कलम से …| सूरज प्रकाश खो जाते हैं घर बब्बू क्लिनिक से रिलीव हो गया है और मिसेज राय उसे अपने साथ ले जा रह... Read More...
ग़ज़लें: (दिलशाद ‘सैदानपुरी’)

ग़ज़लें: (दिलशाद ‘सैदानपुरी’)

रंग मंच कि दुनिया में प्रवेश करने से पहले आपने ‘दिलशाद सैदानपुरी’ के नाम से गज़लें लिखना शुरू किया और यह लेखन का सफ़र आज भी जारी है | हमरंग के मंच से कुछ गज़लें आप सभी पाठकों के लिए, हमरंग पर आगे भी यह सफ़र ज... Read More...
‘प्रदीप कान्त’ की ग़ज़लें

‘प्रदीप कान्त’ की ग़ज़लें

आधुनिकता के साथ गजल की दुनियां में अपनी पहचान बना चुके ‘प्रदीप कान्त’ अपनी दो बेहतर गजलों के साथ हमरंग पर दस्तक दे रहे हैं ….आपका हमरंग पर स्वागत है …| – संपादक  प्रदीप कान्त 1 –  जल रहा सारा श... Read More...
ग़ज़लें: (दिलशाद ‘सैदानपुरी’)

जरूर देखा है: ग़ज़ल (दिलशाद सैदानपुरी)

रंग मंच कि दुनिया में प्रवेश करने से पहले आपने ‘दिलशाद सैदानपुरी’ के नाम से गज़लें लिखना शुरू किया और यह लेखन का सफ़र आज भी जारी है | हमरंग के मंच से कुछ गज़लें आप सभी पाठकों के लिए, हमरंग पर आगे भी यह सफ़र... Read More...
neelambuj

‘नीलाम्बुज’ की ग़ज़लें: हमरंग

‘नीलाम्बुज’ की ग़ज़लें  नीलाम्बुज डी. यू. से नजीर अकबराबादी की कविताओं पर एम् फिल कर चुकने के बाद जे. एन. यू. के भारतीय भाषा केंद्र से ‘सामासिक संस्कृति और आज़ादी के बाद की हिंदी कविता’ पर पीएच. डी. जारी... Read More...
सूरज प्रकाश

किस्‍से किताबों के: “पहली क़िस्त” (सूरज प्रकाश)

“किस्से किताबों के” की पहली क़िस्त में ‘सूरज प्रकाश जी’  के कुछ नोट्स (भूमिका) के साथ आज प्रस्तुत हैं दो किस्से ….. (हिंदी के वरिष्ठ कथाकार ‘सूरज प्रकाश’ की साहित्यिक अनुभव की कलम से निकले ‘किस्से किताबों... Read More...
सूरज प्रकाश

किस्‍से किताबों के: दूसरी क़िस्त (सूरज प्रकाश)

हमरंग पर सूरज प्रकाश द्वारा लिखित विशेष व्यन्ग्यालेख ‘किस्से किताबों के’ की दूसरी क़िस्त – किस्‍से किताबों के – किस्‍सा तीन इस बार का किस्‍सा मेरे बेटे अभिजित की जुबानी  अच्‍छी किताब ने पिटाई से बचा... Read More...
सूरज प्रकाश

किस्‍से “सूरज प्रकाश” के…

हमरंग पर सूरज प्रकाश द्वारा लिखित विशेष व्यन्ग्यालेख ‘किस्से किताबों के’ की तीसरी क़िस्त – किस्‍से किताबों के – किस्‍सा पाँच सूरज प्रकाश बिना किताबों वाला घर- ये किस्‍सा एक प्रसिद्ध बांग्‍ला उप... Read More...
सूरज प्रकाश

एक कमज़ोर लड़की की कहानी: कहानी (सूरज प्रकाश)

सूरज प्रकाश एक कमज़ोर लड़की की कहानी वे मेरी पहली फेसबुक मित्र थीं जो मुझसे रू ब रू मिल रही थीं। फेसबुक पर मेरी फ्रेंड लिस्‍ट पर बेशक काफी अरसे से थीं लेकिन उनसे चैटिंग कभी नहीं हुई थी। कभी उन... Read More...
‘मंटो का टाइपराइटर’ रोचक प्रसंग

‘मंटो का टाइपराइटर’ रोचक प्रसंग

कृशन चंदर जब  दिल्‍ली रेडियो में थे, तभी पहले मंटो और फिर अश्‍क भी रेडियो में आ गये थे। तीनों में गाढ़ी छनती थी। चुहलबाजी और छेड़छाड़ उनकी ज़िंदगी का ज़रूरी हिस्‍सा थे। रूठना मनाना चलता रहता था। कृशन चन्द... Read More...