आगाज़: कहानी (शालिनी श्रीवास्तव)

आगाज़: कहानी (शालिनी श्रीवास्तव)

स्त्री विमर्श के बीच युवा लेखिका शालिनी श्रीवास्तव की कहानियां स्त्री मुक्ति को सदियों से घेरे खड़ीं सामाजिक रूढ़िवादी मान्यताओं से सीधे मुठभेड़ करती हैं | शालिनी की स्त्री आक्रान्ता नहीं बनती बल्कि सहज और प... Read More...
आगाज़: कहानी (शालिनी श्रीवास्तव)

जड़वत: कहानी (शालिनी श्रीवास्तव)

विचार, व्यवहार और हकीकत को परत दर परत उधेड़ती और एक सामाजिक सच्चाई का रचनात्मक ढंग से विवेचन करते हुए बेहतर कथ्य और शिल्प के साथ कैनवस पर उतरती कहानी शालिनी श्रीवास्तव को एक संभावनाशील लेखक होने की गवाही द... Read More...
शालिनी श्रीवास्तव

मेरे हिस्से की धूप: कहानी (शालिनी श्रीवास्तव)

अपने भीतर खुद को खोजने की छटपटाहट एक ऐसे मैदान में ला खडा करती है जहाँ इंसानी वजूद के स्थापत्य के लिए सीधे जिंदगी से मुठभेड़ करनी होती है | स्त्री वर्ग की मुक्त मानवीय अभिव्यक्ति को आवाज़ प्रदान करती ‘शालिन... Read More...