(प्रेमचंद)

गोदान : उपन्यास भाग 11, (प्रेम चंद)

प्रेमचंद गोदान : उपन्यास भाग 11 शाम को उसके पेट में दर्द होने लगा। समझ गई विपत्ति की घड़ी आ पहुँची। पेट को एक हाथ से पकड़े हुए पसीने से तर उ... Read More...

गोदान : उपन्यास भाग 12, (प्रेमचंद)

प्रेमचंद गोदान : उपन्यास भाग 12 मेहता उसकी ओर भक्तिपूर्ण नेत्रों से ताक रहे थे, खन्ना सिर झुकाए इसे दैवी प्रेरणा समझने की चेष्टा कर रहे थे औ... Read More...