हिमखंड के बाशिंदे: कहानी (गीताश्री)

सामाजिक, राजनैतिक बदलावों के साथ उद्घाटित होते वर्तमान के ताने बाने में उलझी इंसानी जिंदगी, मानो मकड़ी के जाले में फंसी हुई मक्खी | सतही तौर पर हँसते, ... Read More...

बांध: कहानी (कमलेश)

"देर रात एक नाव आती। नाव पर हथियार लिये कुछ लोग सवार रहते। बांध के चारो ओर नाव घूमती और जैसे ही कोई लड़की नजर आती हथियारबंद लोग उसे खींच कर नाव पर चढ़ा ... Read More...

शाह की कंजरी, कहानी (अमृता प्रीतम)

अमृता प्रीतम के जन्मदिवस ...... आइये पढ़ते है उनकी  कहानी 'शाह की कंजरी'......  शाह की कंजरी  अमृता प्रीतम उसे अब नीलम कोई नहीं कहता था। सब शाह की ... Read More...
मरना कोई हार नहीं होती: संस्मरण (हरिशंकर परसाई) -: परसाई द्वारा मुक्तिबोध पर लिखा गया संस्मरण :-

अली मंजिल: कहानी (अवधेश प्रीत)

‘अली मंजिल’ अवधेश प्रीत की हमरंग पर प्रकाशित होने वाली दूसरी और बहु चर्चित कहानी है|  कहानी अली मंजिल बिना किसी शोर के बिना किसी प्रत्यक्ष मानवी... Read More...

उद्घाटन: कहानी (हनीफ मदार)

1 जनवरी 2015 को नव वर्ष के अवसर पर सफ़दर हाशमी को समर्पित कोवलेन्ट ग्रुप द्वारा आयोजित कार्यक्रम “तू ज़िंदा है, मैं ज़िंदा हूँ ” में इस कहानी ‘उद्घ... Read More...

कुंजड़-कसाई: कहानी (अनवर सुहैल)

अनवर सुहैल कुंजड़-कसाई ‘कुंजड़-कसाइयों को तमीज कहाँ… तमीज का ठेका तो तुम्हारे सैयदों ने जो ले रक्खा है?’ मुहम्मद लतीफ कुरैशी उर्फ एम... Read More...
तीन मुलाकातें: कहानी (डा0 नमिता सिंह)

तीन मुलाकातें: कहानी (डा0 नमिता सिंह)

     डा0 नमिता सिंह तीन मुलाकातें मेरी और मिताली की पहली मुलाकात देहरादून में हुई थी। वहाँ के गवर्नमेंट गर्ल्स कालेज में दो दिन की स... Read More...
गोदान: उपन्यास ‘भाग 1’ (प्रेमचंद)

गोदान: उपन्यास ‘भाग 1’ (प्रेमचंद)

गोदान (उपन्यास- भाग 1) होरीराम ने दोनों बैलों को सानी-पानी दे कर अपनी स्त्री धनिया से कहा – गोबर को ऊख गोड़ने भेज देना। मैं न जाने कब लौटूँ। ज... Read More...
article placeholder

कामवाली की जाति: लघुकथा (सुशील कुमार भारद्वाज)

सुशील कुमार भारद्वाज कामवाली की जाति गूगल से साभार सारिका बहुत परेशान थीं |घर के सारे काम खुद ही करने पड़ते थे | अंत में उ... Read More...