नव वर्ष पर ‘अश्विनी आश्विन’ की चंद ग़ज़लें…….

एक और वर्ष का गुज़रना यकीनन मानव सभ्यता का एक क़दम आगे बढ़ जाना, ठहरना…. एक बार पीछे मुड़कर देखना, ताज़ा बने अतीत पर एक विहंगम दृष्टि डालकर सोचना, क्... Read More...

लकीरें— एवं अन्य कविताएँ (रवि सिंह)

संवेदनाएं किसी सीमा, रेखा, पद, प्रतिष्ठा या क़ानून की बंदिश से ऊपर वह मानवीय गुण है जो इंसानी दृष्टि से शुरू होकर प्रेम और करुणा तक जाता है और सम्पूर्ण... Read More...

ओस की बूँदें: एवं अन्य कविताएँ (अर्चना कुमारी)

जैसे बीज को तोड़कर निकलता हो कोई अंकुर | 'अर्चना कुमारी' की कविताओं से गुज़रना भी कुछ ऐसी ही अनुभूति से रूबरू होना है, जब, कविता की साहित्य दृष्टि सामाज... Read More...

प्रदीप कांत की दो ग़ज़लें……

आधुनिकता के साथ गजल की दुनियां में अपनी पहचान बना चुके 'प्रदीप कान्त' अपनी दो बेहतर गजलों के साथ हमरंग पर दस्तक दे रहे हैं ....आपका हमरंग पर स्वागत है... Read More...

धरती भयानक हो गई ! कविता (प्रमोद बेड़िया)

गहरे अर्थों और प्रतीकों के सहारे जैसे इतिहासबोध, आदमी ... न.. सम्पूर्ण मानव जाति, धरती .... नहीं.... धरतियों का जीवन आलाप | सभ्यता या सभ्यता के प्रस्फ... Read More...

स्मार्ट सिटी: एवं अन्य कविता (जिजीविषा)

चैनल, टी आर पी, विज्ञापन, शोशल मीडिया, इंटरनेट, बाज़ार और चकाचौंध से बनते स्मार्ट सिटी की आबो-हवा को साँसों से अपने अन्दर खींचते हुए यह याद रख पाना कि,... Read More...

तब तुम क्या करोगे: कविता (ओमप्रकाश वाल्मीकि)

थोड़ी सी बारिश से देश भर के नगर, कस्बों, गांवों की सड़कें व् आम रास्ते कीचड़ और गन्दगी से भर गए हैं ..... उन्ही कीचड़ भरे रास्तों से निकलते हुए बिना किसी ... Read More...

जीवन में बसती हैं कविताएँ: समीक्षा (सुरेश उपाध्याय)

ब्रजेश कानूनगो की कविताओं पर बात करने के लिए कवि के अपने परिवेश और क्रमिक विकास को समझना एक बेहतर उपाय हो सकता है। कविताओं में उनकी सरल भाषा, सहज सम्प... Read More...

“चल रे मन दूर कहीं.” एवं अन्य कविताएँ (नीलम स्वर्णकार)

मानव जीवन की संवेदनाओं एवं कोमल भावों को रचनात्मक अभिव्यक्ति देती पूरे आत्मविश्वास से भरी 'नीलम स्वर्णकार' की कुछ कविताएँ ......| - संपादक  "चल रे ... Read More...