89%

एफ जी एम / सी यानि ‘योनि’ पर पहरा: आलेख (नीलिमा चौहान)

स्त्री  के बाहरी यौनांग यानि भग्नासा को स्त्री देह के एक गैरजरूरी , मेस्क्यूलिन और बदसूरत अंग के रूप में देखने की बीमार मानसिकता  का असल यह है कि पितृ... Read More...

महाश्वेता देवी का जीवन और साहित्य: आलेख (कृपाशंकर चौबे)

महाश्वेता देवी को याद करते हुए 'कृपाशंकर चौबे' का आलेख ........ "संघर्ष के इन दिनों ने ही लेखिका महाश्वेता को भी तैयार किया। उस दौरान उन्होंने खूब रच... Read More...

गाँधी : संकल्प, शक्ति और अर्थवत्ता (डॉ मोहसिन खान)

वर्तमान में हम भारत को देखें तो ग्रामों के विकास की अवस्था और दुर्दशा स्पष्ट हो जाती है। आज भी कई गांवों में पानी पीने की असुविधा के साथ बिजली, विद्या... Read More...

क्या कला को सीमाओं में बाँधना आदर्श स्थिति होगी ?: आलेख (अभिषेक प्रकाश)

"सभी माध्यमों के इतर दिलों को जोड़ने वाला माध्यम गिने-चुने हैं। कला ,उसमें सबसे सशक्त माध्यम है जो दिलों को छू जाती है। अभी जनमाष्टमी पर अबू मोहम्मद औऱ... Read More...

त्रिशंकु पर दातादीन : आलेख (कमलेश पाण्डेय)

(“हरिशंकर परसाई: – चर्चा ज़ारी है ……. ” का चौथा दिन ……… ‘कमलेश पाण्डेय’ का आलेख ) त्रिशंकु अधुनातन और पुरातन के क्षितिजों के बीच लटका एक सुन्दर-सा ग्र... Read More...

हिंदी व्यंग्य की धर्मिक पुस्तक- परसाई: आलेख (प्रेम जनमेजय)

(“हरिशंकर परसाई: – चर्चा ज़ारी है ….. ”  का तीसरा दिन ……..’प्रेम जनमेजय’ का आलेख ) हिंदी व्यंग्य साहित्य में यह निरंतर होता आया है और हो रहा है कि हास... Read More...
harishankar-parsai1

क्या समय है…? परसाई के पुनर्मुल्यांकन का : आलेख (एम्0 एम्0 चंद्रा)

(“हरिशंकर परसाई:–चर्चा ज़ारी है……” के अंतिम और परसाई के जन्म दिन पर…….‘एम० एम० चंद्रा’  का आलेख’) “इस बात को हम अच्छी तरह से जानते है की परसाई अपने यु... Read More...

समलैंगिकः ‘मैं भी हूँ’ : आलेख (अमिता महरौलिया)

साहित्य भी समलैंगिक संबंधो से अछूता नहीं। सर्वप्रथम इस्मत चुगतई ने 1941 में अपनी कहानी ‘लिहाफ’ में समलैंगिकता को रूपांतरित किया था जिसके कारण चुगतई को... Read More...
मुआवज़ा: कहानी (फरीदा ज़माल)

क्यों अखरती हैं मुखर स्त्रियाँ…: आलेख (अनीता मिश्रा)

“शायद दुनिया में अधिकतर जगह ऐसा है कि ज्यादा तर्क – वितर्क करती स्त्री को उस तरह से सम्मान नहीं मिल पाता है जिस तरह पुरुष को मिलता है । ऐसा करने वाला ... Read More...

इंजीनियर्स डे पर कुछ पल का चिंतन: आलेख (विवेक रंजन श्रीवास्तव विनम्र)

भारत रत्न इंजीनियर सर मोक्षगुण्डम विश्वेवश्वरैया के जन्म दिवस ‘इंजीनियर्स डे’ १५ सितम्बर पर मोक्षगुण्डम विश्वेवश्वरैया के सामाजिक जीवन और उनके कार्यों... Read More...