दौड़ से बाहर: कविता (मायामृग)

सामाजिक ताने बाने में इंसानी जीवन, एकलता और सामयिक स्पंदन का सूक्ष्म विश्लेषण करती 'माया मृग' की कवितायें.... दौड़ से बाहर  मायामृग मैं दौड़ा नहीं पर बाहर नहीं हूं दौड़ से मेरे हिस्‍से में है एक रास्‍ता, ... Read More...

भाषा बहता नीर है: समीक्षा ‘कुतुबनुमा’ कविता संग्रह, (प्रदीप कांत)

अग्रज कवि सुमित्रानंदन पंत ने कहा था - वियोगी होगा पहला कवि, आह से उपजा होगा गान। निकलकर आँखों से चुपचाप, बही होगी कविता अनजान...| यह कविता का एक कारण हो सकता है| इस कोमल भावना से थोड़ा आगे बढ़ें, व्यक्तिगत पीढा ... Read More...