अँधेरे की पाज़ेब: एवं अन्य कविताएँ (निदा नबाज़)

अतीत के गहरे जख्मों से रिसते दर्द पर भविष्य के सुखद मानवीय क्षणों का मरहम रखती, 'निदा नवाज़' की कविताएँ......|  अँधेरे की पाज़ेब निदा नबाज़ अँधेरे की पाज़ेब पहन आती है काली गहरी रात दादी माँ की कहानिय... Read More...