जिस लाहौर नई वेख्या ओ जन्म्या ई नई उर्फ़ माई… : नाट्य समीक्षा (शक्ति प्रकाश )

दो दिवसीय नाटक 'माई' (जिस लाहौर नहीं वेख्या ...) का  सफलता पूर्वक मंचन ........ | जिस लाहौर नई वेख्या ओ जन्म्या ई नई उर्फ़ माई... शक्ति प्रकाश कल मदार बंधुओं, हनीफ साहब, गनी साहब और सनीफ साहब के आमन्त्रण प... Read More...

परिवर्तनगामी चेतना की संवाहक प्रस्तुति… नाट्य समीक्षा (हनीफ मदार)

 ‘आशिया मदार’ के निर्देशन में भारतेंदु नाट्य अकादमी द्वारा पच्चीस दिवसीय  नाट्य कार्यशाला में ‘राजेश कुमार’ द्वारा लिखत नाटक ‘सपने हर किसी को नहीं आते’ का मंचन 16 दिसम्बर को एच पी एस सभागार में किया गया | इस प्... Read More...