मुसलमान: कविता (निवेदिता)

कुछ रचनाएं वर्तमान समय की विद्रूप विभीषिकाओं को बेहद स्पष्ट स्वरूप में सामने ला खड़ा करती हैं | ये रचनाएं मानव अंतर्मन को गहरे तक हिला देती हैं जहाँ इंसान खुद को एक बड़े सवाल के सामने जबावदेह के रूप में खड़ा पा... Read More...

यादें.. एवं अन्य कवितायें : निवेदिता

जीवन के एकांत, भावुकताओं, टूटते बिखरते और फिर-फिर जुड़ते मानवीय दर्प के बीच से धड़कती संवेदनाओं के साथ गुज़रती हैं 'निवेदिता' की कवितायें | भावुक प्रेमिका, संवेदनशील माँ, अपने समय से संघर्ष करती आधुनिक स्त्री और प... Read More...

दिल के खोह से बाहर आओ प्रेम: कवितायेँ (निवेदिता)

'क्या जुल्मतों के दौर में भी गीत गाये जायेंगे....... हाँ जुल्मतों के दौर में ही गीत गाये जायेंगे' ..... प्रेम गीत, जिसका हर शब्द इंसानियत के भीतर संवेदना बनकर स्पंदन करने की क्षमता रखता हो | यूं तो निवेदिता की ... Read More...