‘तरसेम कौर’ की तीन कविताएँ

कविता लिखी नहीं जाती शायद वह बनती है, सजती है भीतर कहीं गहरे मन के अंतस में, और रिस पड़ती है शब्दों की बुनावट लेकर, कुछ ऐसे ही एहसास से भरतीं हैं 'तररसेम कौर' की कविताएँ ...................... १-   तरसेम कौ... Read More...