जब उम्मीदें मरती हैं: एवं अन्य कविताएँ (संध्या नवोदिता)

धूसर एकांत में समय से टकराती मानवीय व्याकुलता से टूटते दर्प और निरीह वीरान में सहमी खड़ी इंसानियत के अवशेषों के साथ चलती जिन्दगी की कल्पना बेहद खतरनाक होती है | वक़्त के चहरे पर और गाढी होती धुंध भरी परत को चीर क... Read More...