मुहब्बत ही दीन-औ-ईमां मेरा: कहानी (शेखर मल्लिक)

“वसंत और तबस्सुम की अंतरजातीय शादी, इस औद्योगिक शहर के एक छोटे से हिस्से में, जहाँ ये लोग बसर कर रहे थे, एक किस्म के लोगों को पसंद नहीं आई थी… बल्कि नागवार दुस्सहासिकता लगी थी. मेरा पत्रकार मित्र विजय ब... Read More...

टुअर होते वक्त में: कहानी (सुभाष चन्द्र कुशवाहा)

समाज, स्थितियों, परिस्थितियों या राजनीति में समय के साथ क्या वाकई कुछ बदलाव हुआ …… या महज़ नाम और स्वरूप ही बदले यह तो देखना और सोचना हमें खुद को…….. | ‘कभी’ सामंती व्यवस्था ‘थी’ और आज……कॉर्पोरेट या कॉ... Read More...