क्या कला को सीमाओं में बाँधना आदर्श स्थिति होगी ?: आलेख (अभिषेक प्रकाश)

"सभी माध्यमों के इतर दिलों को जोड़ने वाला माध्यम गिने-चुने हैं। कला ,उसमें सबसे सशक्त माध्यम है जो दिलों को छू जाती है। अभी जनमाष्टमी पर अबू मोहम्मद औऱ फरीद अय्याज की आवाज मे 'कन्हैया, याद है कुछ भी हमारी' कव्वा... Read More...