अंधी गली का मुहाना : कविता (अशोक तिवारी)

भारतीय समाज के संघर्ष शील अतीत को सामने रखकर हमारे आज से सवाल करती 'अशोक तिवारी' की कविता ....... अंधी गली का मुहाना अशोक कुमार तिवारी ये कौन सी गली में आ गए हम कौन सी वादियों में घिर गए कि कुछ सुझाई नह... Read More...

‘डिअर जिन्दगी’ व-नाम लव यू ज़िन्दगी..: फिल्म समीक्षा (संध्या नवोदिता)

जिंदगी में प्यार बहुत से रिश्तों से मिलता है लेकिन हमें बचपन से भावनाओं को दबाना सिखाया जाता है. रोओ तो कहा जाता है रोते नहीं, स्ट्रांग बनो. किसी पर गुस्सा आये तो गुस्सा नहीं करो, स्माइल करो. ऐसे अनुकूलन करते ह... Read More...