समय के साथ संवाद करतीं ‘भीष्म साहनी’ की कहानी: आलेख (अनीश कुमार)

मानवीय संवेदनाओं और मानव मूल्यों के निरतंर क्षरण होते समय में सामाजिक दृष्टि से मानवीय धरातल से जुड़े साहित्यकारों का स्मरण हो आना सहज और स्वाभाविक ही है | वस्तुतः इनकी कहानियों और उपन्यासों से गुज़रते हुए वर्तमा... Read More...
(हनीफ मदार)

पीछे जाते समय में…. भीष्म साहनी: संपादकीय (हनीफ मदार)

आज यूं अचानक 'भीष्म सहनी' की याद आ जाने के पीछे 'अनहद' के संपादक 'संतोष कुमार चतुर्वेदी' का कुछ महीने पूर्व का आग्रह रहा है ज़ाहिर है यह आलेख विस्तृत रूप से 'अनहद' के ताज़ा अंक फरवरी २०१६ में प्रकाशित हुआ है | तब... Read More...