एक छोटा-सा मजाक: कहानी (अन्तोन चेखव)

मानव ह्रदय सी गतिमान, इंसानी संवेदना की इतनी सूक्ष्म नक्कासी 'अंतोन चेख़व' की कहानियों की वह ताकत है कि कथा पाठक से जुड़ती नहीं बल्कि ह्रदय की अनंत गहराइयों में उतरती जाती है ...... ऐसी ही एक कहानी ...| - संपादक ... Read More...

साइकिल की सैर : लघु कथा (बाबा मायाराम )

हर व्यक्ति के दिमाग की हार्ड डिस्क में बचपन की अनेक स्मृतियाँ अंकित होती हैं, जब भी इस बाजारी भाग दौड़ से थककर थोड़े फुर्सत के पल मिलते है तो हम उन यादों में खो जाते हैं और ये यादों हमें अन्दर ही अन्दर गुदगुदाने ... Read More...