मुसलमान: कविता (निवेदिता)

कुछ रचनाएं वर्तमान समय की विद्रूप विभीषिकाओं को बेहद स्पष्ट स्वरूप में सामने ला खड़ा करती हैं | ये रचनाएं मानव अंतर्मन को गहरे तक हिला देती हैं जहाँ इंसान खुद को एक बड़े सवाल के सामने जबावदेह के रूप में खड़ा पा... Read More...

मैंने एक लड़की को मरते देखा: कविता (अंजली पूनिया)

हर पल, हर दम, मरती, दम तोडती आधी दुनिया की तस्वीर, रचनात्मक दृष्टि से उकेरती साहित्यिक हस्ताक्षर बनती खुद आधी दुनिया ....... सराहनीय प्रयास हमरंग पर स्वागत के साथ ...| - संपादक  मैंने एक लड़की को मरते देखा ... Read More...

अँधेरे की पाज़ेब: एवं अन्य कविताएँ (निदा नबाज़)

अतीत के गहरे जख्मों से रिसते दर्द पर भविष्य के सुखद मानवीय क्षणों का मरहम रखती, 'निदा नवाज़' की कविताएँ......|  अँधेरे की पाज़ेब निदा नबाज़ अँधेरे की पाज़ेब पहन आती है काली गहरी रात दादी माँ की कहानिय... Read More...

ज़ुल्म के गलियारों में : एवं अन्य कविताएँ (सीमा आरिफ)

वर्तमान के सामाजिक, राजनैतिक तंग हालातों के बीच भविष्य के मानवीय खतरों को देखने का प्रयास करती 'सीमा आरिफ़' की लेखकीय सामाजिक सरोकारी प्रतिबद्धता उनकी रचनाओं की तरह बेहद गहरी होती जान पड़ती है | इन गहराती आशंकाओं... Read More...

‘सुदीप सोहनी ‘नीह्सो’ की शीर्षक विहीन कविताएँ-

प्रेम एक लय है प्रकृति की, जीवन की और साँसों की, निश्चित ही उसे शब्दों में बाँध पाना आसान नहीं है बावजूद इसके दुनिया का यह खूबसूरत एहसास, मानव अभिव्यक्ति के रूप में साहित्यकारों की कलम से किसी निर्मल झरने की तर... Read More...

इंसानियत, एवं अन्य कविताएँ (प्रेमा झा)

कुछ व्याकुल सवालों के साथ इंसानों की बस्ती में इंसानियत और प्रेम को खोजतीं 'प्रेमा झा की कवितायें ..... इंसानियत प्रेमा झा तुमने मुझे प्यार किया मजहब की दीवारें तोड़कर मुल्क की दीवारें लांघकर मगर ... Read More...

जब उम्मीदें मरती हैं: एवं अन्य कविताएँ (संध्या नवोदिता)

धूसर एकांत में समय से टकराती मानवीय व्याकुलता से टूटते दर्प और निरीह वीरान में सहमी खड़ी इंसानियत के अवशेषों के साथ चलती जिन्दगी की कल्पना बेहद खतरनाक होती है | वक़्त के चहरे पर और गाढी होती धुंध भरी परत को चीर क... Read More...

दौड़ से बाहर: कविता (मायामृग)

सामाजिक ताने बाने में इंसानी जीवन, एकलता और सामयिक स्पंदन का सूक्ष्म विश्लेषण करती 'माया मृग' की कवितायें.... दौड़ से बाहर  मायामृग मैं दौड़ा नहीं पर बाहर नहीं हूं दौड़ से मेरे हिस्‍से में है एक रास्‍ता, ... Read More...

इस्क्रा: कविता (दीपक निषाद)

"हमरंग" हमेशा ही प्रस्फुटित होते ऐसे रचनाकारों को जगह देते रहने को तत्पर रहा है जो सार्थक लेखन की दिशा में अपनी कलम चलाते दिख रहे हैं | 'दीपक निषाद' उन्हीं उभरते रचनाकारों की कड़ी में अगला नाम है  | वैचारिक रूप ... Read More...

बाज़ार और साम्प्रदायिकता… कविता (अनवर सुहैल)

सार्थक, समर्थ और सामाजिक भाव-बोध पैदा करती 'अनवर सुहैल' की दो कवितायें .....|  बाज़ार और साम्प्रदायिकता...  बाज़ार रहें आबाद अनवर सुहैल बढ़ता रहे निवेश इसलिए वे नहीं हो सकते दुश्मन भले से वे रहे हों आत... Read More...