बच्चों को कम न आंके : नाट्य रिपोर्ट (शिवम् राय)

रंगमंच मंचीय गतिविधिया

शिवम् राय 26 2018-11-18

बच्चों को कम न आंके : नाट्य रिपोर्ट (शिवम् राय)

बच्चों को कम न आंके

शिवम् राय

भारतेन्दु नाट्य अकादमी ‘रंगमण्डल’ लखनऊ के द्वारा हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी एक माह की ‘बाल रंगमंच कार्यशाला’ की गयी। जिसके अन्तर्गत पंजाबी नाटककार डा० सत्यानन्द सेवक के नाटक ‘कबीर’ (हिन्दी अनुवाद-अमृता सेवक) की प्रस्तुति दिनांक 30 जून 2017 को बी० एम० शाह प्रेक्षागृह, भा० ना० अ० लखनऊ में हैप्पी कलीज़पुरिया के निर्देशन में मंचित किया गया। इस कार्यशाला की प्रस्तुति में जिस प्रकार ‘कबीर’ को व नाटक के कथ्य को सफलतापूर्वक संप्रेषित बच्चों के माध्यम से किया गया वो अभूतपूर्व व हतप्रभ करने वाला था।

हम प्रायः बच्चों के लिए पंचतंत्र, जंगल, जादू, परियो की कहानियाँ, इत्यादि ही को उपयुक्त सामग्री के रूप में प्रयोग करना श्रेयस्कर समझते हैं। बच्चों की कार्यशाला में हैप्पी कलीजपुरिया के ‘कबीर’ करने का निर्णय जहाँ शुरूआती दिनों में कुछ अभिभावक व रंग शिक्षकों-चिन्तकों को चौकाने वाला व ग़लत लगा। वही अभिभावक व रंग चिन्तक नाटक के अन्त में सन्तुष्ट दिखें व प्रशंसा भी की….. कि …. बहुत अच्छी प्रस्तुति रही। कुछ अभिभावक आपस में बात करते नज़र आये कि ‘‘ कम से कम ‘कबीर’ तो समझे…. कुछ दोहे तो याद कर लिये…. वैसे पढ़ने के लिये उठाओ तो नही जागते…. जैसे कहो बी० एन० ए० जाना है, झट से तैयार हो जाते हैं। नाटक जहाँ डिजाइनिंग सेट, प्रकाश, वस्त्र के स्तर पर ख़ास कलेवर लिये हुए था। वहीं सजीव संगीत, मुख्य स्वर (प्रवीन्दर कुमार, हैप्पी कलीजपुरिया) व कोरस गायन हृदयस्पर्शी होने के साथ-साथ कथा-सूत्र के प्रवाह को बनाये रखता है व बच्चों के परफारमेन्स में योग देता प्रतीत होता है। बच्चों में कहीं भी संवाद भूलने की ग़लती या फ़म्बल इत्यादि नहीं की बल्कि मंच पर विशेष प्रभावों को बहुत सफाई से एक्जिक्यूट किया। अभिनय के स्तर पर ‘क्षणे रूष्टाः क्षणे तुष्टाः रूष्टे तुष्टे क्षणे क्षणे’ वाले बच्चों में ये प्रतिभा इन्बिल्ट होती है। उन्हें कल्पनाशीलता, अवलोकन, एकाग्रता व समझ के स्तर पर कम नहीं आंकना चाहिए। थियेटर एक्सरसाइजेस, गेम्स इत्यादि में जिस तेजी, प्रखरता की आवश्यकता होती है वो उनमें सहज स्वतः ही होती है। (उदाहरणार्थ इब्राहिम का किरदार करने वाले कुशाग्र ने आशु-सर्जना कर प्रस्तुति में योग दिया।)
बच्चों में मिलकर कार्य करने की भावना भी स्वतः ही होती है, थियेटर के द्वारा उनकी इस क्षमता में अभिवृद्धि होती है। (उदाहरणार्थ इस प्रस्तुति में कथक नृत्य का संयोजन 12 वर्ष की प्रतिभागी तिस्या गोला ने किया व साथ के प्रतिभगियों ने मिलकर इसे बेहद खूबसूरत तरीके से प्रस्तुत किया जिससे उनका आत्मविश्वास निश्चित तौर पर बढ़ा होगा।) बच्चों में नाटक की गम्भीरता की समझ नहीं होने की बात कई बार कही जाती रही है किन्तु नाटक के दौरान उनके प्रयास, उनकी प्रवृत्तियों व प्रतिभा को देखकर और अन्ततः प्रस्तुति को देखकर ये कहना अतिशयोक्तिपूर्ण नहीं होगा कि ये प्रस्तुतियों परिपक्व प्रस्तुतियों के सदृश भी थी। मसलन बच्चों को भूमिका की तैयारी हेतु जो मार्ग, तरीके बताये गये उन पर पूरी तन्मयता के साथ घंटों अमल करके लगे रहते थे व अपनी भूमिका के साथ-साथ अन्य भूमिकाओं को भी याद कर लेना इस बात का सूचक है। (उदाहरणार्थ सुल्तान की भूमिका करने वाले प्रतिभागी शान्तनु ने ‘कबीर’ भी तैयार किया था, इसी प्रकार कई अन्य प्रतिभागियों ने भी किया था। बच्चें इस प्रशिक्षण में रंगमंच, संगीत, अभिनय, स्वर सम्भाषण, विभिन्न गतिविधियां व खेलों के जरिये, जहाँ इस विधा से परिचय प्राप्त करते हैं, वहीं इस प्रशिक्षण से बच्चें खुलते है, अभिव्यक्तिपरक बनते हैं। 
जो उनके पढ़ाई, कैरियर एवं सम्पूर्ण जीवन में मददगार सिद्ध होता है। बच्चों के साथ कार्य करते हुए कई बार ऐसा भी होता है कि हम भी बच्चों से सीखते हैं। 3 जरूरत इस बात की है कि हम अपने चश्में से बच्चों को न आंके, उन्हें खुली आखों से देखें उनमें सम्भावनाओं का अथाह भण्डार है। उन्हें खुले आसमान की तलाश है जिसमें वो अपने पंखों को परख सकें, अपने परवाज़ को खु़द देख सकें व आपको दिखा सकें। अतएव बच्चों पर विश्वास रखना चाहिए उन्हें ‘कम नहीं आंकना चाहिए।’

शिवम् राय द्वारा लिखित

शिवम् राय बायोग्राफी !

नाम : शिवम् राय
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

भारतीय अमूर्तता के अग्रज चितेरे : रामकुमार

भारतीय अमूर्तता के अग्रज चितेरे : रामकुमार

पंकज तिवारी 46 2019-01-15

पहाड़ों की रानी, शिमला में जन्में चित्रकार और कहानीकार रामकुमार ऐसे ही अमूर्त भूदृश्य चित्रकार नहीं बन गये अपितु शिमला के हसीन वादियों में बिताये बचपन की कारस्तानी है, रग-रग में बसी मनोहर छटा की ही देन है इनका रामकुमार हो जाना। अपने में ही अथाह सागर ढूढ़ने वाले शालीन,संकोची रामकुमार बचपन से ही सीमित दायरे में रहना पसंद करते थे पर कृतियाँ दायरों के बंधनों से मुक्त थीं शायद यही वजह है उनके अधिकतर कृतियों का 'अन्टाइटल्ड' रह जाना जहाँ वो ग्राही को पूर्णतः स्वतंत्र छोड़ देते हैं भावों के विशाल या यूँ कहें असीमित जंगल में भटक जाने हेतु। किसी से मिलना जुलना भी कम ही किया करते थे। उन्हे सिर्फ और सिर्फ प्रकृति के सानिध्य में रहना अच्छा लगता था - उनका अन्तर्मुखी होना शायद इसी वजह से सम्भव हो सका और सम्भव हो सका धूमिल रंगों तथा डिफरेंट टेक्स्चरों से युक्त सम्मोहित-सा करता गीत। 

- पंकज तिवारी का आलेख 

मुस्लिम महिला संरक्षण विधेयक: आलेख (अरविंद जैन)

मुस्लिम महिला संरक्षण विधेयक: आलेख (अरविंद जैन)

अरविंद जैन 61 2019-01-15

आदेश ! अध्यादेश !! ‘अध्यादेश’ के बाद, ‘अध्यादेश’

'यह संसद और संविधान की अवमानना है। ‘राजनितिक फ़ुटबाल’ खेलते-खेलते, ‘मुस्लिम महिलाओं की मुक्ति’ के रास्ते नहीं तलाशे जा सकते। संसद में बिना विचार विमर्श के कानून! देश में कानून का राज है या ‘अध्यादेश राज’? बीमा, भूमि अधिग्रहण, कोयला खदान हो या तीन तलाक़। सब तो पहले से ही संसद में विचाराधीन पड़े हुए हैं/थे। क्या यही है सामाजिक-आर्थिक सुधारों के प्रति ‘प्रतिबद्धता’ और ‘मजबूत इरादे’? क्या यही है संसदीय जनतांत्रिक व्यवस्था की नैतिकता? क्या यही है लोकतंत्र की परम्परा, नीति और मर्यादा? यह तो ‘अध्यादेश राज’ और शाही निरंकुशता ही नहीं, अंग्रेजी हकुमत की विरासत का विस्तार है। ऐसे नहीं हो सकता/होगा ‘न्यू इंडिया’ का नव-निर्माण। अध्यादेशों के भयावह परिणामों से देश की जनता ही नहीं, खुद राष्ट्रपति हैरान...परेशान होते रहे हैं।' 

मुस्लिम महिला संरक्षण विधेयक पर गहरी क़ानूनी समझ सामने लाता वरिष्ठ अधिवक्ता 'अरविंद जैन' का आलेख 

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.