ग़ज़ल: (उपेन्द्र परवाज़)

कविता ग़ज़ल

उपेन्द्र परवाज़ 103 2018-11-18

ग़ज़ल: (उपेन्द्र परवाज़)

आँख के मौसम जो बरसे, ज़िस्म पत्थर हो गये
अब के सावन बारिशों से, बादल ही तर हो गये |
इस कदर थे मोजज़े, अपने जुनूने इश्क के
क़त्ल करने के बाद, खुद घायल ही ख़ंजर हो गये |
उनके दिल के रास्तों में , इतनी थी दश्त-ए- बे-करां
मंजिलों से भटके तो, रस्ते ही रहबर हो गये |
ख़त्म है आँगन, झरोखों के लिबादे ही बचे
घर कभी जो थे वही अब, आज पिंजर हो गये |
इतनी दस्त-ए-तलब बाद, सनम तुझे अब क्या मिले
लग गयी उनको दुआएं, बंदा-परवर हो गये |
बनने चले थे “परवाज़”,तुम अमीरे-ए- कारवाँ
इस कदर भटके हो, खुद तुम आज बेघर हो गये |

उपेन्द्र परवाज़ द्वारा लिखित

उपेन्द्र परवाज़ बायोग्राफी !

नाम : उपेन्द्र परवाज़
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.