अहसास: कविता

कविता कविता

अशोक 175 2019-01-12


अहसास

पता पूछना

उस मंज़िल के

चंद सफ़र करने वालों का

कहां गए वे  

किधर जमाया उनने डेरा

कहां गुज़ारी शाम

कहां पर हुआ सबेरा

 

काश अगर तुम गुज़रो

नहर किनारे

उन झुरमुट से

जहां कभी कुछ पेड़ हुआ करते थे

काट दिए जो अपने बूढ़ेपन के चलते

उन पेड़ों के तनों से लिपटी भीषण अग्नि

जलकर ख़ुद ही खाक हो गई

 

नहर किनारे

मिट्टी के ढूहों के नीचे

ढूँढ़ सको तो ढूँढ़ के लाना

पैरों की कोमल छापों को

जो कहती थीं  

नहीं गला सकता है उनको कोई

नहीं मिटा सकता है कोई

गुज़रा एक इतिहास पुराना

होके गुज़रा

अपनी ही आंखों के आगे

 

बूझ सको तो बूझके आना

कहां गए वो लोग

किया था जिनने दावा

हरियाली को फैलाने का

सूखे मन में

गीला एक अहसास जगाना

काम था जिनका

बथुए की रोटी में लिपटी

मट्ठे के खट्टे में सिमटी

उस दुनिया का पता पूछना  

 

काश अगर तुम

ढूँढ़ सको तो बीज ढूँढ़ना

उस फल का

खाया था जो सालों पहले

उन्हीं सफ़र करने वालों ने

यहां गुज़रते और सुस्ताते

पड़ा हुआ जो मिट्टी की सतहों के नीचे

एक आस में

मिल जाए उसको कोई मौक़ा

होने को तब्दील पेड़ में

मिले खाद पानी कुछ ऐसा

लिए विरासत अपनेपन की

सुंदर दे अहसास सभी को

झूम-झूमकर उसी तरह

चलते थे जैसे सभी मुसाफ़िर

सालों पहले

सदियों पहले

या फिर

यहां-वहां बसने से पहले आबादी के

क़ायनात में

 

रोक सको अपने को तुम

अगर दो घड़ी

उस ज़मीन पर

जिसकी मिट्टी

गीली है पर गीली नहीं है

पैरों के कंपन में कोई

नई कहानी जन्म ले रही

एक बार फिर आहिस्ते से

महसूस कर सको

उन लमहों को

बहते जाते 

नहर के उस स्थिर पानी में

आया है जो नदी छोड़कर

हर हाल में हमें सींचने!!

..............

अशोक द्वारा लिखित

अशोक बायोग्राफी !

नाम : अशोक
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

बंद कमरे की रोशनी  : कहानी (हनीफ़ मदार)

बंद कमरे की रोशनी : कहानी (हनीफ़ मदार)

हनीफ मदार 256 2019-11-21

फ़िरोज़ खान के संस्कृत पढ़ाने को लेकर उठे विवाद के वक़्त में लगभग डेढ़ दशक पहले लिखी इस कहानी को पढ़ते हुए एक ख़ास बात जो स्पष्ट रूप से सामने आती है कि बीते इन वर्षों में भले ही हम आधुनिकता और तकनीकी दृष्टि से बहुत तरक़्क़ी कर गए हैं किंतु यह बिडंबना ही है कि सामाजिक रूप से हमारी मानसिक स्थिति में कोई बदलाव नहीं  आ पाया । जहाँ इधर फ़िरोज़ खान का संस्कृत पढ़ाना राजनैतिक हित-लाभ का अस्त्र बनता जा रहा है वहीं डेढ़ दशक पहले लिखी कहानी का पात्र मास्टर अल्लादीन का संस्कृत पढ़ाना भी वोट की राजनीति को इस्तेमाल होता है॰॰॰॰॰॰एक समुदाय विशेष के द्वारा किसी भी भाषा पर अपनी बपौती समझ, समाज में साम्प्रदायिक लड़ाई- झगड़े करवाकर लोगों के अन्दर अनचाहा भय पैदाकर समाज की शान्ति भंग करके अपनी राजनैतिक रोटियां सेकने वाले वर्ग की नंगी दास्ताँ है "हनीफ़ मदार" की यह कहानी - अनिता चौधरी

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.