लोकोदय साहित्य संवाद, मौजूदा साहित्यिक परिदृश्य में एक ऐतिहासिक हस्तक्षेप

अपनी बात अपनी बात

हनीफ मदार 424 2019-01-15

लोकोदय साहित्य संवाद, मौजूदा साहित्यिक परिदृश्य और घटती पाठकीयता, विषय पर परिचर्चा एवं पुस्तक लोकार्पण 

लोकोदय साहित्य संवाद, मौजूदा साहित्यिक परिदृश्य में एक ऐतिहासिक हस्तक्षेप

विश्व साहित्य से रूबरू होने का सपना संजोये देश के कोने-कोने से दिल्ली विश्व पुस्तक मेले में पहुँचे लेखक और पाठकों को अंततः निराशा ही हाथ लगी। मानो सर्दी की सिहरन से सिकुड़ते शरीर की तरह पुस्तक मेला भी संकुचित हो गया हो। देश दुनिया के अनेक प्रकाशनों को शायद जगह ही नहीं मिल सकी। दिल्ली अपनी जगह पर थी प्रगति मैदान भी वहीं था लेकिन अब जैसे उसे प्रगति मैदान कहना उसी के नाम से उसे चिढ़ाने जैसा था। दरसल ‘प्रगति’ से जुड़ा वह मैदान ख़ुद अपने पर्याय विकास की भेंट चढ़ा हुआ कंक्रीट का जंगल बनते जाते ख़ुद के स्वरूप पर जैसे आँसू बहा रहा था। लगभग एक चौथाई हिस्से में सिमटा विश्व पुस्तक मेला जैसे ख़ुद अपने इस अप्रत्याशित संकुचन पर शर्मिंदा हो। हाँ शायद शब्द, किताबें या प्रगति शब्द भले ही इस सब से शर्मिंदा हो किंतु कोई शर्मिंदगी नहीं है हमारी राज्य व्यवस्थाओं को।

तारीख़ों के लिहाज़ से हम लगभग मध्य के बाद दिल्ली पहुँचे थे । प्रगति मैदान के गेट पर लगी लम्बी क़तारों को देखकर एक पुर-सुकून एहसास की लहर शरीर में मचलने लगी, लगा कि बदलते कथित डिजिटल वक़्त में भी किताबों से अनुराग कम नहीं है। इतनी भीड़ कि गेट से हाल तक की गैलरी में पाँव रखने को जगह नहीं। किंतु यह भेद जल्दी ही टूट गया जब पाया की पूरा मेला बहुत कम में सिमटा है। वहाँ तक पहुँचने के अलावा सारे रास्ते बंद हैं इसलिए भीड़ कम बल्कि उसका एहसास ज़्यादा है । हाँ उन सरकारी पाबंदियों की हद के भीतर विशालकाय मशीनें कंक्रीट ढोती हुई ज़रूर नज़र आ रहीं थीं ।

यक़ीन मानें इस सब से मन बहुत खिन्न हुआ और हम लौट आना चाहते थे किंतु ‘लोकोदय प्रकाशन’ का अपने आयोजन लोकोदय साहित्य संवाद में हमको बुलाना हमें रोक रहा था। वहीं प्रगति मैदान में खड़े खड़े ही एक स्वाभाविक सवाल ने अपना सिर उठाया कि कहीं लोकोदय का यह आयोजन भी विश्व पुस्तक मेले की तरह॰॰॰॰॰॰? इसी ऊहा पोह में मित्र शक्ति प्रकाश के उपन्यास और एम एम चंद्रा के उपन्यास के विमोचन में शामिल रहकर उन्हें ख़ुशी और ख़ुद को सांत्वना दी। बहुत दिनों बाद मिले लेखक मित्रों से मेल-मिलाप और बात-चीतों ने हमारे भीतर की उस बेचैनी को कुछ तसल्ली दी विश्व साहित्य से मिलने के लिए हुए खर्चें और सर्दी की ठिठुरन ने पैदा की थी।

अब पुस्तक मेले का कोई आकर्षण हममें नहीं बचा था। सिवाय लोकोदय के आयोजन के जहाँ मेरे साथ कई अन्य कलमकारों की किताबों का विमोचन भी होना था। लगभग ग्यारह बजे ब्रजेश जी से बात हुई तो अपने आयोजन प्रति उनके भीतर की ऊर्जा और गर्माहट हमारे भीतर उतरी। उसी गरम जोशी में हम आयोजन स्थल ‘कड़कड़डूमा’ पहुँचे।

दिल्ली के प्रदूषण से आँखों में जलन और फेफड़ों को चीरती शीत लहर के बीच सौ से सवासौ लोगों की क्षमता वाले उस हाल में लेखकों और मित्रों का ख़ूब जमाबाड़ा लगा था जो मूक रूप में यह संदेश दे रहा था कि रचनाकार या साहित्य का पाठक अभिव्यक्ति पर दिखते प्रत्यक्ष और परोक्ष पाबंदियों के बाद भी तत्पर है वातावरण को लेकर गम्भीर चिंतन के लिए। पुस्तक मेले के समानांतर किंतु उससे लगभग १३ किलोमीटर दूर इस आयोजन में कर्णसिंह चौहान, राजकुमार राकेश, भाई संजीव, रतन सांभरिया जैसे अतिथियों की उपस्थिति इस बात की गवाही थी ।

लोकोदय का यह आयोजन तीन सत्र में विभाजित था। पहले सत्र में जहाँ ‘युवा लेखक ऐजाजुल हक़’ को उनके पहले कहानी संग्रह ‘अंधेरा कमरा’ के लिए ‘लोकोदय नवलेखन सम्मान’ से विभूषित करना था तो वहीं दूसरे सत्र में ऐतिहासिक रूप से १६ लेखकों की किताबों का लोकार्पण शामिल था और बाद में तीसरा सत्र ‘मौजूदा साहित्यिक परिदृश्य में घटती पाठकीयता’ पर गम्भीर चर्चा का होना शामिल था। पंकज तिवारी के बनाए कविता चित्रों से सज़्ज़ित हाल को उत्कृष्ट साहित्यिक  वातावरण में ढालने में अरुण कुमार, सिदार्थ वल्लभ और ब्रजेश जी की पूरी टीम की मेहनत स्पष्ट झलक रही थी।

“अगर समाज में सबकुछ ठीक हो, सबकुछ अनुकूल हो तो लेखक कुछ नहीं लिख पाएगा क्योंकि साहित्य की प्रासंगिकता विरोध में ही होती है।“ यह बात कार्यक्रम के तीसरे और अंतिम सत्र में अपने अध्यक्षीय उद्वोधन में वरिष्ठ और मशहूर आलोचक कर्ण सिंह चौहान ने कही । ‘लोकोदय प्रकाशन’ लखनऊ की ओर से समकालीन साहित्यिक परिदृश्य और घटती पाठकीयता विषय पर आयोजित संगोष्ठी में बोलते हुए श्री चौहान ने कहा कि समाज के जो मौजूदा हालात हैं, वह बागी और क्रांति की मानसिकता रखने वाले लेखकों के लिए अपनी लेखनी को समृद्ध बनाने का स्वर्णिम मौका प्रदान करते हैं।

वहीं विषय प्रवर्तन करते हुए युवा कवि सिद्धार्थ बल्लभ ने घटती पाठकीयता को लेकर कई सवाल उठाए थे। इन सवालों पर श्री चौहान ने कहा कि किताबों की बिक्री जरूर घटी है लेकिन पाठकीयता कम नहीं हुई है क्योंकि तकनीकी विकास के साथ पढ़ने के माध्यम बदले हैं। उन्होंने लेखकों-प्रकाशकों को सलाह दी कि वो केवल किताबों तक सीमित नहीं रहकर नए माध्यमों को भी अपनाएँ, तभी वह दुनिया भर के लाखों करोड़ों पाठकों तक पहुँच सकेंगे।

आलोचक संजीव कुमार का मानना था कि उम्दा साहित्य के पाठक हमेशा ही कम होते हैं क्योंकि वह आम पाठक के कॉमन सेंस पर चोट करता है। उनका मानना था कि इसलिए उम्दा साहित्य लोकप्रिय साहित्य से अलग हैं। रत्न कुमार संभारिया और दूसरे वक्ता इस बात से असहमत थे कि पाठकों की संख्या कम हो रही है। उनका कहना था कि अगर अच्छा लिखा जाएगा तो पाठक जरूर पढ़ेगा। लेखक का जोर संख्या पर नहीं बल्कि साहित्य की उत्कृष्टता पर होना चाहिए।

हालाँकि दिल्ली के कड़कड़डूमा में आयोजित इस कार्यक्रम का पहला सत्र युवा कथाकार ‘एजाजुल हक’ के हक़ में रहा जहाँ उन्हें उनके पहले कहानी संग्रह “अँधेरा कमरा” के लोकार्पण के साथ ‘लोकोदय नवलेखन सम्मान’ से नवाजा गया । यह महज़ एक साहित्यिक आयोजन ही नहीं अपितु हिंदी साहित्य में घटित होने वाला एक ऐसा ऐतिहासिक पल था जहाँ एक ही वक़्त में एक ही आयोजन में साहित्य की विभिन्न विधाओं पर लेखन कर रहे सोलह लेखकों कि महत्वपूर्ण किताबों का लोकार्पण किया गया। देश के विभिन्न प्रांतों से जुटे रचनाकारों ने मौजूदा सामाजिक-राजनीतिक और सांस्कृतिक माहौल में एक साथ 16 पुस्तकों के  लोकार्पण से सार्थक और हस्तक्षेप के लिए इस वृहद और साहसिक समारोह के लिए ‘लोकोदय प्रकाशन’ के मुखिया बृजेश नीरज की खुले दिल से प्रसंशा की।

वरिष्ठ कवि विजेंद्र के कविता संग्रह जो न कहा कविता में का लोकार्पण एक दिन पहले ही उनके आवास पर ही किया गया था। जबकि उक्त समारोह में सुशील कुमार की आलोचना की पुस्तक आलोचना का विपक्ष, गणेश गनी के कविता संग्रह वह साँप-सीढ़ी नहीं खेलता, सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव के कविता संग्रह अँधेरे अपने अपने, डॉ शिव कुशवाहा के संपादन में प्रकाशित पाँच कवियों की प्रतिनिधि कविताओं के संग्रह शब्द-शब्द प्रतिरोध, डॉ मोहन नागर के कविता संग्रह अब पत्थर लिख रहा हूँ इन दिनों, कुमार सुरेश के व्यंग्य उपन्यास तंत्र कथा, प्रद्युम्न कुमार सिंह के कविता संग्रह कुछ भी नहीं होता अनन्त, डॉ गायत्री प्रियदर्शिनी के कविता संग्रह उठते हुए, अनुपम वर्मा के कहानी संग्रह मॉब लिचिंग, भरत प्रसाद के सृजन पर केंद्रित और बृजेश नीरज द्वारा सम्पादित पुस्तक शब्द शब्द प्रतिबद्ध, अतुल अंशुमाली के उपन्यास सदानन्द एक कहानी का अन्त, शम्भु यादव के कविता संग्रह साध रहा है जीवन निधिहनीफ मदार के कहानी संग्रह रसीद नंबर ग्यारह, का लोकार्पण हुआ।

हनीफ़ मदार की किताब ‘रसीद नम्बर ग्यारह’ के लिए अनीता चौधरी ने श्री मदार की रचनाशीलता और उनके व्यक्तित्व पर बोलते हुए कहा कि वर्तमान की बदलती वैश्विक पूंजीवादी सामाजिक और राजनैतिक व्यवस्था में नित नई चुनौतियों से  टकराने की जद्दोजहद के बीच, व्यवस्था में मानवीय संवेदनाओ का अभाव और अभिव्यक्ति पर परोक्ष कई दफ़ा प्रत्यक्ष रूप से अंकुश के वक़्त में निश्चय ही दम घुटने लगता है। जिसकी आर्थिक नीतियां सर्वहारा वर्ग के लिए दमनकारी हों तो और भी ज्यादा। बेरोजगार घूमता युवा, साम्प्रदायिकता, जातीयता के बहाने घरों से उठती आग की लपटें, किसानों की बदहाली, आधी आबादी के हक-हकूकों के सवाल या फिर अपनी बेसिक जरूरतों के अभाव में जीवन जीता मजदूर वर्ग, यही वो अकुलाहट भरी बैचेनी होती है जो, न सिर्फ़ चर्चाओं में रहती है बल्कि उन्हें कहानी लिखने के लिए मजबूर करती है ।

आज हमारे सामने जो सबसे बड़ा ख़तरा है वह समाज को विभाजित करने वाली शक्तियों के रूप में साम्प्रदायाकता का ख़तरा है | जहाँ अपने समय और समाज के ख़तरों को, यथार्थ के साथ प्रेमचंद, यशपाल जैसे हमारे अन्य बुजुर्गों ने तात्कालिक संदर्भों में, संघर्षीय चेतना के साथ हमारे सामने उद्घाटित किया उस मानवीय चेतना को वर्तमान संदर्भों के साथ रेखांकित करना मदार की कहानियों की सबसे बड़ी विशेषता है । या कहें आपकी कहानियाँ जीवन के अनुभव की कहानियाँ हैं | इनमें शब्द-बिम्बों का चयन आपके बेहतर लेखकीय कौशल के रूप में नज़र आता है । यही उन्हें हिंदी साहित्य में एक प्रतिबद्ध साहित्यकार के रूप में स्थापित करता है |

प्रगति मैदान में पुस्तक मेला चल रहा था। पुस्तक मेला और एक दिन बचा हुआ था लेकिन बावजूद इसके वहाँ से करीब 13 किलोमीटर दूर कड़कड़डूमा में आयोजित इस समारोह में रचनाकारों और पाठकों की भीड़ देखते बनती थी। पूरा हॉल खचाखच भरा हुआ था। अलग-अलग राज्यों के रचनाकारों की मौजूदगी ने समारोह को और खास बना दिया। विश्व पुस्तक मेले में हमारे भीतर भारी निराशा को इस आयोजन ने कहीं न कहीं संतोष में बदल दिया था। युवा कवि आलोचक अरूण कुमार ने दोनों सत्रों का बेहतरीन संचालन किया। युवा चित्रकार पंकज तिवारी ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

 

हनीफ मदार द्वारा लिखित

हनीफ मदार बायोग्राफी !

नाम : हनीफ मदार
निक नाम : हनीफ
ईमेल आईडी : hanifmadar@gmail.com
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

जन्म -  1 मार्च १९७२ को उत्तर प्रदेश के 'एटा' जिले के एक छोटे गावं 'डोर्रा' में 

- 'सहारा समय' के लिए निरंतर तीन वर्ष विश्लेष्णात्मक आलेख | नाट्य समीक्षाएं, व्यंग्य, साक्षात्कार एवं अन्य आलेख मथुरा, आगरा से प्रकाशित अमर उजाला, दैनिक जागरण, आज, डी एल ए आदि में |

कहानियां, समीक्षाएं, कविता, व्यंग्य- हंस, परिकथा, वर्तमान साहित्य, उद्भावना, समर लोक, वागर्थ, अभिव्यक्ति, वांग्मय के अलावा देश भर  की लगभग सभी पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित 

कहानी संग्रह -  "बंद कमरे की रोशनी", "रसीद नम्बर ग्यारह"

सम्पादन- प्रस्फुरण पत्रिका 

संपादक - हमरंग 

फिल्म - जन सिनेमा की फिल्म 'कैद' के लिए पटकथा, संवाद लेखन 

अवार्ड - सविता भार्गव स्मृति सम्मान २०१३, विशम्भर नाथ चतुर्वेदी स्मृति सम्मान २०१४ 

- पूर्व सचिव - संकेत रंग टोली 

सह सचिव - जनवादी लेखक संघ,  मथुरा 

कार्यकारिणी सदस्य - जनवादी लेखक संघ राज्य कमेटी (उत्तर प्रदेश)

संपर्क- 56/56 शहजादपुर सोनई टप्पा, यमुनापार मथुरा २८१००१ 

phone- 08439244335

email- hanifmadar@gmail.com

Blogger Post

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

मनुष्य होने के सन्दर्भ तलाशते लयबंध: समीक्षा (उमाशंकर सिंह परमार)

मनुष्य होने के सन्दर्भ तलाशते लयबंध: समीक्षा (उमाशंकर सिंह परमार)

उमाशंकर सिंह परमार 117 2019-06-02

बृजेश लय आधारित विधा के सफल और नामचीन कवि हैं। उनके लयबन्धों पर लिखना चुनौती भरा काम है। अमूमन गीतों और गज़लों की समीक्षा में व्याकरण व भावनात्मक आवेगों की प्रतिच्छाया सक्रिय रहती है आलोचक वाह-वाही की शैली में स्ट्रक्चर पर अपनी बात रखकर आलोचना की इतिश्री कर देते हैं। वह गीतों और बन्धों की वैचारिक विनिर्मिति और समाजशास्त्र पर जाना ही नहीं चाहते हैं। इससे हिन्दी कविता के क्षेत्र में गज़ल और गीतों को दोयम माना जाता रहा है। यह कमी विधा की नहीं है आलोचना की कमी है कि गीतों और बन्धों में समाजशास्त्रीय आलोचना को नहीं लागू किया गया वह अब भी अपने परम्परागत आलोचना प्रतिमानों द्वारा मूल्यांकित की जा रही है।

हंसी व सामूहिकता को बचा कर रखता है रंगमंच: आलेख (अनीश अंकुर)

हंसी व सामूहिकता को बचा कर रखता है रंगमंच: आलेख (अनीश अंकुर)

अनीश अंकुर 78 2019-05-25

डिजीडल दुनिया में भले मनुष्य आभासी दुनिया में एक दूसरे से जुड़े रहते हैं लेकिन यथार्थ में उनका सामूहिक जीवन पर बेहद घातक प्रभाव पड़ा है। हमारी सामूहिकता, एक दूसरे के साथ हंसना-बोलना सब पर बुरा प्रभाव पड़ा है। भोपाल के रंगनिर्देशक बंसी कौल ने रंगविदूषक की ऐसी ही अवधारणा पर काम किया है। वे कहते है ‘‘ रंगविदूषक में हम यह मानकर चलते थे कि हमारा काम एक असलहा है। आपको कुदरत ने ऐसा हथियार दिया जिसे बनाए रखना जरूरी है। यदि आप विचार को बचाकर रखोगे आप अपनी आध्यामिकता को बचाकर रखोगे क्योंकि जो हंसी-ठठा होता है, वह सामूहिक होता है। लेकिन आप उसी पूरी हंसी को खत्म कर दोगे तो आप सामूहिकता को भी खत्म कर रहे हैं जिसकी हमारे समाज को बहुत जरूरत है। ’’ नाटक यही काम करता है वो आपका मनोरंजन करता है, हंसाता है। ताकतवर लोगों पर भी हंसने की क्षमता प्रदान करता है। बकौल बर्तोल्त ब्रेख्त ‘‘ जिस नाटक में आप हंस नहीं सकते वो नाटक हास्यास्पद है।’’

तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

सुभाष पंत 137 2019-05-01

वह स्वर्ण युग था जिसमें शेर और बकरी एक घाट पानी पीते थे। वर्तमान कितना घिनौना है, यह बताने की मैं कोई आवश्यकता अनुभव नहीं कर रहा। उसे तो तुम देख ही रही हो। मेरा बस चले तो मैं वर्तमान को अतीत में बदल दूँ। दरअसल मेरी मुख्य चिंता ही यह है।’ कछुए ने आध्यात्मिक दर्प के साथ कहा। तितलियों ने अनेक बार इसी किस्म के सनातन वक्तव्य सुने थे, जिनका नाभिनाल अतीत में गड़ा होता है। अतीत के प्रति पूरा सम्मानभाव रखने के बावजूद वे इस तरह के वक्तव्यों से ऊब चुकीं थीं। एक प्रगल्भ तितली ने तुरन्त अपना विरोध प्रकट किया, ’इसका मतलब तो यही हुआ सर कि यह ऐसी व्यवस्था थी जहाँ शेर को शिकार करने के लिए भटकना नहीं पड़ता था। वह उसे बिना परिश्रम के उसी घाट पर उपलब्ध हो जाता था, जहाँ वह पानी पीता था। यह तो सर शोषक की आदर्श स्थिति हुई, शोषित की नहीं।’

स्त्री अधिकारों का 'मौन अनुबंध' कविता समीक्षा (गणेश गनी)

स्त्री अधिकारों का 'मौन अनुबंध' कविता समीक्षा (गणेश गनी)

गणेश गनी 157 2019-04-29

हिंदी साहित्य में ऐसे धूर्त साहित्यकार भतेरे हैं जो स्त्री विमर्श की आंच पर अपनी साहित्यिक रोटियां तो सेकते हैं, जो महिलाओं पर केंद्रित कविताएँ तो लिखते हैं, जो महिला विशेषांक भी निकालते हैं और सम्मेलनों में जाकर भाषण झाड़ते हैं कि उनसे बड़ा औरतों का संरक्षक कोई और है ही नहीं, परन्तु असलियत कुछ और ही होती है और वो यह कि उनके विचार इन सबसे एकदम उलट होते हैं। इनकी मानसिकता तब और भी उजागर हो जाती है जब ये दारूबाज पार्टियों में अपनी घिनौनी सोच को जगज़ाहिर करते हैं। दरअसल हमारे समाज में अब भी स्त्रियों को वो सम्मान और हक अभी नहीं मिले हैं, जिनकी वे वास्तव में हकदार हैं। आज भी अधिकतर चालाक पुरुष उसे अपनी सम्पति से अधिक कुछ नहीं समझते। कवयित्री भावना मिश्रा की अधिकतर कविताएँ ऐसी मानसिकता पर गज़ब की चोट करती हैं। भावना मिश्रा ने पुरुष मानसिकता की कलई शानदार तरीके से खोली है-

'मित्रो मरजानी' से अनंत यात्रा पर 'कृष्णा सोबती', स्मरण शेष

'मित्रो मरजानी' से अनंत यात्रा पर 'कृष्णा सोबती', स्मरण शेष

हनीफ मदार 260 2019-01-25

भारतीय साहित्य के परिदृश्य पर हिन्दी की विश्वसनीय उपस्थिति के साथ कृष्णा सोबती अपनी संयमित अभिव्यक्ति और रचनात्मकता के लिए जानी जाती रहीं उनकी लंबी कहानी मित्रो मरजानीके लिए  कृष्णा सोबती पर हिंदी पाठकों का फ़िदा हो उठना इसलिए नहीं था कि वे साहित्य और देह के वर्जित प्रदेश की यात्रा की ओर निकल पड़ी थीं बल्कि उनकी महिलाएं ऐसी थीं जो कस्बों और शहरों में दिख तो रही थीं, लेकिन जिनका नाम लेने से लोग डरते थे.यह मजबूत और प्यार करने वाली महिलाएं थीं जिनसे आज़ादी के बाद के भारत में एक खास किस्म की नेहरूवियन नैतिकता से घिरे पढ़े-लिखे लोगों को डर लगता था. कृष्णा सोबती का कथा साहित्य उन्हें इस भय से मुक्त कर रहा था. वास्तव में कथाकार अपने विषय और उससे बर्ताव में केवल अपने आपको मुक्त करता है, बल्कि वह पाठकों की मुक्ति का भी कारण बनता है. उन्हें पढ़कर हिंदी का वह पाठक जिसने किसी हिंदी विभाग में पढ़ाई नहीं की थी लेकिन अपने चारों तरफ हो रहे बदलावों को समझना चाहता था.

 

इसके अलावा निकष’, ‘डार से बिछुड़ी’, मित्रों मरजानी’, ‘यारों के यार’, ‘तिन-पहाड़’, ‘बादलों के घेरे’, ‘सूरज मुखी अँधेरे के’, ‘ज़िन्दगीनामा’, ‘ लड़की’, ‘दिलो-दानिश’, ‘हम हशमतऔर समय सरगमसे गुज़री आपकी लम्बी साहित्यिक ज़िंदगी में अपनी हर नई रचना में आपने ख़ुद अपनी क्षमताओं का अतिक्रमण किया जो सामाजिक और नैतिक बहसों की अनुगूँज के रूप में बौद्धिक उत्तेजना, आलोचनात्मक विमर्श, के साथ पाठकों में बराबर बनी रही

 

साहित्य अकादमी पुरस्कार और उसकी महत्तर सदस्यता के अतिरिक्त, अनेक राष्ट्रीय पुरस्कारों और अलंकरणों से शोभित कृष्णा सोबती साहित्य की समग्रता में ख़ुद के असाधारण व्यक्तित्व को भी साधारणता की मर्यादा में एक छोटी-सी कलम का पर्याय ही मानती रहीं बावज़ूद आपने हिन्दी की कथा-भाषा को एक विलक्षण ताज़गी दी आज अपने बीच से उनका चले जाना भले ही एक जीवन चक्र का पूरा होना हो किंतु यह सम्पूर्ण हिंदी साहित्य जगत के लिए एक ऐसी अपूर्णीय रिक्तता की तरह है  जिसे भर पाना नामुमकिन है

 

उन्हीं की एक कहानी के साथ हमरंगपरिवार कृष्णा सोबती को नमन करता है

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.