बंद कमरे की रोशनी : कहानी (हनीफ़ मदार)

कथा-कहानी कहानी

हनीफ मदार 517 2019-11-21

फ़िरोज़ खान के संस्कृत पढ़ाने को लेकर उठे विवाद के वक़्त में लगभग डेढ़ दशक पहले लिखी इस कहानी को पढ़ते हुए एक ख़ास बात जो स्पष्ट रूप से सामने आती है कि बीते इन वर्षों में भले ही हम आधुनिकता और तकनीकी दृष्टि से बहुत तरक़्क़ी कर गए हैं किंतु यह बिडंबना ही है कि सामाजिक रूप से हमारी मानसिक स्थिति में कोई बदलाव नहीं  आ पाया । जहाँ इधर फ़िरोज़ खान का संस्कृत पढ़ाना राजनैतिक हित-लाभ का अस्त्र बनता जा रहा है वहीं डेढ़ दशक पहले लिखी कहानी का पात्र मास्टर अल्लादीन का संस्कृत पढ़ाना भी वोट की राजनीति को इस्तेमाल होता है॰॰॰॰॰॰एक समुदाय विशेष के द्वारा किसी भी भाषा पर अपनी बपौती समझ, समाज में साम्प्रदायिक लड़ाई- झगड़े करवाकर लोगों के अन्दर अनचाहा भय पैदाकर समाज की शान्ति भंग करके अपनी राजनैतिक रोटियां सेकने वाले वर्ग की नंगी दास्ताँ है "हनीफ़ मदार" की यह कहानी - अनिता चौधरी

बंद कमरे की रोशनी 


गांव के मंदिर में रौनक लौट आयी थी। नित्य पौ फटते ही पक्षियों की चहचहाहट और मंदिर की घंटियों की आवाज के साथ पुजारी जी के मुँह से फूटते आरती के स्वरों से निर्मित मोहक संगीत भोर की पुरवाई में घुलकर पूरे गांव में छाने लगता। सूर्योदय के साथ ही रोजी -रोटीे के संघर्ष के लिए काम पर जाते लोगों का ताँता लग जाता मंदिर दर्शन को और पुजारी से आशीर्वाद के लिए और पुजारी जी मनोकामना पूर्ती का आशीष देते तो लोगों को लगता उनकी कामना पूरी हो गयी और इसी आशा भरे सुकून के साथ लोग पूरे आत्म विश्वास से अपनी दैनिक कामों में जुटतेजिससे रोटी के साथ दोनों वक्त तरकारी भी मिलने लगी । मंदिर के अहाते में एवं मंदिर के बगल में रास्ते के किनारे हरे-भरे लहलहाते पेड़ जिनकी छितराई हुई टेढ़ी-मेढ़ी छाया राहगीरों को पूरा सुकून देती । सब पुजारी जी की मेहनत और लगन का नतीजा था। इस मंदिर पर पुजारी जी को आये लगभग पाँच वर्ष हो गये और आए क्यावे तो जैसे प्रकट हुए थे। कल ही की तो बात लगती है जबयह मंदिर गांव वालों की स्मृतियों में खो चुका था। वर्षों से अंधकार में डूबा यह आस्था स्थल वीरान हो गया था। वैसे तो कभी-कभार कोई भूला बिसरा आदमी दिन के समय मंदिर में आ भी जाता था मगर जबसे यह बात फैली कि मंदिर में भूत-प्रेतों का निवास है मंदिर की तरफ लोगों ने फटकना भी बन्द कर दिया और यह स्थल मकड़ी ,चमगादड़ों एवं चोर -उचक्कों का आश्रय बन गया।

उस दिनबिहारी चाचा को शहर जाने के लिए अड्डे से पहली बस पकड़नी थी सो बिहारी चाचा चार बजे अंधेरे में ही घर से अड्डे की ओर निकल लिए । उन्हें पता था कि पहली बस पाँच बजे जाती है । ……‘‘मंदिर से होकर जाने वाले रास्ते से जल्दी पहुँच जाऊँगा |’’ , यह ही सोचकर बिहारी चाचा उसी रास्ते से चल पड़े जो मंदिर के करीब से गुजरता थाअतः मन में किंचित भय भी थामगरफिर सोचा -मुझ बुड्ढे आदमी का भूत-प्रेत क्या करेंगे। मंदिर के करीब पहुँचने पर बिहारी चाचा को झुटपुटे अंधेरे में एक भूरी आकृति मंदिर को बुहारती हुयी सी प्रतीत हुई । बस ,पसीने से नहा गये बिहारी चाचा और उल्टे पांव हाँफते हुए घर पहुँचे। बात आग की तरह गांव भर में फैल गईकि बिहारी चाचा ने मंदिर में भूत को झाडू लगाते हुए देखा है। भोर की पहली किरण के साथ लोगों का एक हुजूम मंदिर पहुँच गयामन की जिज्ञासा शांत करने। पुजारी जी अभी भी मंदिर की सफाई में लीन थेजब लोगों का भ्रम काफूर हुआकियह भूत नहीं साधू महाराज हैं लोगों ने पुजारी जी को समझाया भीहरिया ने कहा, ‘‘बाबा इस मंदिर में तो भूत-प्रेतों का साया हैआप यहाँ क्या कर रहें हैं ?’’ बाबा के होठ काँपे थे ‘‘शैतान इस घर में नहींमन में है ,उसे निकाल दो फिर यहाँ पूरी शांति मिलेगी ’’। पुजारी जी की बातों से भ्रामक अवधारणाओं का किला तो पूरी तरह नहीं टूट सकाफिर भी कुछ लोगों ने हिम्मत जुटाई और मंदिर में पुजारी जी का सहयोग करने लगे।

कौन जाने पुजारी जी ने कहाँ-कहाँ से लाकर छायादार व फलदार पेड़ मंदिर के आस-पास लगाए थे पुजारी जी सारा-सारा दिन बस इसी के लिए ही जीते रहे। हालांकि गांव के कुछ युवकों ने पुजारी जी का हाथ बटाने की पुरजोर कोशिश भी कई बार की मगरपुजारी जी उन्हें हमेशा मना करते रहे। एक दिन हरिया व श्यामू ने कहा था ,‘महाराज! हमें भी कुछ धर्म -कर्म का काम करने दो ’ तब पुजारी जी ने श्यामू के सिर पर हाथ रखते हुए कहा था, ‘भगवान तुम्हारे इस धर्म कार्य से खुश नहीं होंगे बल्कितुम्हारे बच्चों के चेहरे की खुशी उन्हें जरूर खुश करेगीतुम उनकी क्षुधा शांति के लिए परिश्रम करोयहां के लिए मैं ही काफी हूँ ’’। पुजारी जी की दो वर्ष की मेहनत से मंदिर को भुला चुके भक्तों की खासी भीड़ इकट्ठी होने लगी ,और मंदिर भी चढ़ावा भी आने लगा। पुजारी जी ने वर्ष भर का चढ़ावा इकट्ठा करकेमंदिर के दालान में सड़क किनारे एक प्याऊ बनवाया ,जहाँ बैठकर पुजारी जी सारा दिन राहगीरों की तृषा शांत करते और लोगों से आग्रह करते – गांव में बच्चों के लिए एक पाठशाला बनवाने का इसी चिंतन में उनके चेहरे की लकीरें गाढ़ी हो गई थी उनके दुख का अंत पिछले वर्ष तब हुआ जब मंदिर में चढ़ावे व् लोगों के सहयोग से पाठशाला खुली और वे खुद भी बच्चों को संस्कृत पढ़ाने लगे।

गांव की तरक्की से जुड़ी पुजारी जी की चर्चा दूर -दूर तक होने लगी । यह तो नहीं पता कि यह सब भगवान की मर्जी थी या पुजारी जी की मेहनत का प्रतिफलमगर हाँगांव वालों की नजर में पुजारी जी के सम्मान का भाव असीमित हो चुका था । गांव का कोई भी अच्छा कार्य पुजारी के आशीर्वाद के बिना मानो सोचा ही नहीं जा सकता था। उस दिन हरी सिंह की लड़की की बारात आनी थी। मंदिर के पिछवाड़े वाले अहाते मेंबारात को ठहराना था जिससे पुजारी जी ने ऐसे ही कार्यों के लिएउबड़-खाबड़ बंजर सी पड़ी जमीन को समतल कर खोद-गोढ कर चारों ओर छोटे-बडे़ पौधे लगाए तथा पानी डाल-डाल कर बीच में घास लगायी थी । उस दिन ,खुद प्रधान जी सारा मंदिर पर व्यवस्थाओं की देख-रेख में मौजूद रहे थे । क्यों न रहतेहरी सिंह उनका छोटा भाई जो था। इसी बहाने प्रधान जी पुजारी जी के साथ पूरा दिन रहने को अपना सौभाग्य समझ रहे थे। प्रधान जी ने पुजारी जी से कई बार आग्रह किया आप आराम कर लेंमैं प्याऊ पर बैठता हूँ पुजारी जी की कृष काया तो जैसे प्याऊ पर जैम ही गई थी बोले , “लोगों की प्यास बुझा कर मुझे आराम करने से कहीं ज्यादा सुख मिलता है|” प्रधान जी बिना कुछ कहे और कार्यों में जुट गये। दोपहर को प्याऊ खाली थापुजारी जी नहीं थे लगभग आधा घंटा बाद पुजारी जी मंदिर में बने अपने छोटे से कमरे से बाहर आये। इस बीच प्रधान जी ने प्याऊ को जीवित रखा। पुजारी जी को देखते ही एक गुनहगार की तरह प्रधान जी ने उठते हुए कहाप्याऊ खाली था सो मैंने सोचा ……. ‘‘ कोई बात नहींमैं तनिक भगवान से प्रार्थना करने गया था‘‘। और पुजारी जी ने प्रधान जी की पीठ थपथपा दी। दो घंटे बाद पुजारी जी ने फिर एक बालक को प्याऊ पर बिठायाऔर पुनः अपने कमरे में चले गये। प्रधान जी समझ गये, ‘‘ अब थक कर आराम करने गये है‘‘। किसी ने आवाज लगाईप्रधान जी! बारात आ गई। प्रधान जीकुछ लोगों को ज़रूरी हिदायतें देते हुए थोड़ी देर को मंदिर से बाहर चले गयेमगरजब लोटेतो पुजारी जी को प्याऊ पर बैठे पाया। प्रधान जी ने अनुनय की ‘‘ महाराज ! कुछ देर और आराम कर लेते‘‘। पुजारी जीप्रधान जी की मासूमियत पर हल्का सा मुस्कराए, ‘‘ मैं भगवान से ध्यान लगा रहा था‘‘। प्रधान जी कोआज पता चला किपुजारी जी दिन में कई बार ध्यान मग्न होते है। तभी यह खुशियाँ गाँव की और लौट रही है। शाम को देर तक मंदिर की घंटियों की आवाज वातावरण में गूँजती रही। उस दिन के बादलोग पुजारी जी से मिलने समय देखकर आने लगे थे। उन्हें पता था कि दिन में किस समय कितने बार पुजारी जी ध्यान मग्न होते है। आज-कल प्रधान जीमंदिर पर कुछ ज्यादा ही समय देने लगे थे। चुनाव करीब था। सो आस-पास के गांव के लोगों से भी आसानी से मुलाकात हो जाती थी । जैसे ही मौका मिलता प्रधान जीबड़ी चतुराई से लोगों को बताते’ गाँव में पाठशाला बनवा दी हैबच्चे को पढ़ने भेजो। मंदिर का काया-कल्प आप देख ही रहे हैं ’’। प्रधान जी के यह कातर शब्द कथित दंभ में डूबे प्रतीत होतेउनकी मंशा इसी के सहारे चुनाव जीतने की थी। मगर लोगों की नजर में इन शब्दों से इस सब के पीछे पुजारी जी का अथाह परिश्रम कहीं आच्छादित नहीं होता था। प्रधान जी नेशहर से श्रीहरन को भी बुला भेजा थाजिसकी वजह से प्रधान जी पिछला चुनाव भी जीते थे क्योंकि श्रीहरन को राजनीति के सभी गुण आते थेछलबलदल सब कुछ उसके पास भरपूर था ।

श्रीहरन गांव पहुँचा तब तक अंधेरा पूरी तरह गांव उतर चुका था। श्रीहरन मंदिर की काया-कल्प को देखने को उतावला थाजो उसने प्रधान जी से सुना था। वह भी पुजारी जी से अभी मिलकर आशीर्वाद लेना चाहता थासो उसी समय प्रधान जी के साथ मंदिर चला गया। प्रधान जी ने मंदिर के बाहर से ही आवाज दी – पुजारी जी ! पुजारी जी एक हाथ में थमे दीपक की टिमटिमाती लौ कोदूसरे हाथ की आड़ से जीवित रखने का प्रयास करते हुएबाहर निकले जिसकी बुझी सी रोशनीउनके चेहरे पर दिखायी दे रही थी । प्रधान जी नेपुजारी जी के हाथ से दीपक ले लिया अब श्रीहरन का चेहरा भी रोशन था। प्रधान जी नेश्रीहरन को पुजारी जी के चरण स्पर्श के लिए कहा मगर श्रीहरन तो जैसे पुजारी जी को देखते ही जड़ हो गया था । प्रधान जी ने श्रीहरन को चेताने की कोशिश करते हुए पुजारी की ओर दृष्टि डालीजोचुँधिआयी आँखो से श्रीहरन को अपलक निहार रहे थे । प्रधान जी के झकझोरने परश्रीहरन की तन्द्रा टूटी । वह एक झटके से पलटा और प्रधान का हाथ पकड़कर लगभग खींचते हुए बोला ,‘‘चलो प्रधान जी !’’ दीपक पुजारी जी को थमा कर प्रधान जी लगभग घिसटते हुए श्रीहरन के साथ वापस चल पड़े । लेकिन बार-बार पीछे मुड़कर पुजारी जी को भी देख रहे थे । पुजारी जी के हाथ में टिमटिमाती ज्योति दूर तक दिखती रही । प्रधान जी सोच रहे थे ,‘‘पुजारी जी का अपमान किया है हमने इसलिए नाराज होकर अभी तक वहीं खड़े हैं ।

घर पहुँचते ही श्रीहरन ने बड़ी गम्भीरता से पूछा, ‘‘यही पुजारी है ? ’’ , ‘‘हाँ तो’’? ‘‘ प्रधान जी की बेचैनी और बड़ गयी । ‘‘जी नहीं ! यह पुजारी नहीं है इसे मैं अच्छी तरह जानता हूँ। यह मेरे शहर का मास्टर अल्लादीन है जो कॉलेज में संस्कृत पढ़ाता था । ’’ श्रीहरन ने इस बात पर पूरा जोर दिया था जैसे बम फटा हो और सारा गांव इकट्ठा हो गया । पुजारी के विषय में जानने की पूरे गांव की जिज्ञासाप्रधान जी के चेहरे पर उतर आयी थी।

‘‘तो फिर यह वर्षों से इस मंदिर और गांव की सेवा में क्यों जुटे है ?’’ प्रधान जी के हलक से मुश्किल से इतने ही शब्द फूटे थे । श्री हरन गम्भीर मुद्रा में चारपाई पर बैठ गया । पल भर में गाँव भर की भीड़ में सन्नाटा पसर गया जैसे किसी बड़े अदालती फैसले का इन्तजार हो । श्रीहरन कहने लगा ‘‘पिछले दंगों में मास्टर अल्लादीन के भरे पूरे परिवार को नष्ट कर दिया गयाइनके दो जवान बेटे और बीबी को घर में बन्द करके जला दिया गया । ’’ श्रीहरन यह सब बताते हुए किसी ऐतिहासिक विद्वान की भांति आत्मविश्वासी दम्भ में डूबा हुआ प्रतीत हो रहा था। जैसे किसी ऐसी घटना को सुना रहा था जिसे केवल वही जानता हैकोई और नहीं। श्रीहरन की आवाज फिर गूंजी ‘‘और यह सब किसी और ने नहींइनकी जात वालों ने ही किया था जो इनके संस्कृत पढ़ाने से खुश नहीं थे वे इन्हें काफिर कहते थे । मास्टर उस दिन दूसरे शहर किसी समारोह में गये थेउस दिन के बाद इन्हें वहां कभी नहीं देखा गया। यह वही अल्लादीन हैजो यहां तुम्हारा पुजारी बना बैठा है। ’’ श्रीहरन के शांत होते ही प्रधान जी बोल पडे़ सही कह रहा श्रीहरनयह पुजारी दिन में कई बार प्रार्थना नहीं करता बल्कि नमाज पढ़ता हैअब समझ में आया कि यह पुजारी नहीं हैतो फिर रहना भी नहीं चाहियेक्यों भाइयों ?’’ इस बार कोने से बिहारी चाचा बोले ‘‘अब अल्लादीन हो या रामदीन क्या फर्क पड़ता है जब भगवान को ही इससे कोई आपत्ति नहीं हुयी तो हम क्यों परेशान हों ?’’ पीछे से हरिया का स्वर उभरा ‘‘उन्होंने इतने वर्षों की मेहनत से मंदिर को आबाद किया गाँव की खुशी के लिए खुद अपनी मेहनत से पुजारी जी ने क्या-क्या नहीं किया । अब इस सब को एक पल में हम कैसे भूल जाएं ?’’ कुछ और स्वर मिलते कि श्रीहरन फट पड़ा ‘‘ कुछ भी हो यह पुजारी नहीं हो सकताऔर फिर तुम क्या जानो धार्मिक मामलों में ख्वामखाह टाँग अड़ाते हो। चलो ! उस मास्टर को मंदिर से अभी खदेड़ते हैं । ’’ श्रीहरन चारपाई से खड़ा हो गयाप्रधान जी भी श्री हरन के साथ खड़े हो गयेऔर फिर कितने ही स्वर एक हो गए। पूरा गाँव मंदिर पर जमा हो गया। प्रधान जी ने आवाज लगाई ,‘‘पुजारी जी ! ’’ अब तक पुजारी जी के हाथों लगे पौधेफूल फुलवाड़ी न जाने कितने ही पैरों के नीचे रूँध गयेऔर उन्हें रौंदते हुए मंदिर में पहुंँच गये। मंदिर में टिमटिमाते दीपक की मलिन हो चुकी ज्योति अन्धकार में कहीं विलीन हो गई । मंदिर में पुजारी जी नहीं थे परंतु उनके कमरे से रोशनी अभी भी झांक रही थी। जोर की आवाज के साथ कमरे का दरवाजा खोल दिया गया। कमरे में पुजारी नहीं दो धर्म ग्रंथ एक साथ रखे थे। दीये की मध्यम रोशनी में भी ग्रंथों के बादामी आवरण के बीच दबे पन्नों की सफेदी ऐसी चमक रहीं थी जैसे वह भीड़ को देख कर हँस रहे हों ।

हनीफ मदार द्वारा लिखित

हनीफ मदार बायोग्राफी !

नाम : हनीफ मदार
निक नाम : हनीफ
ईमेल आईडी : hanifmadar@gmail.com
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

जन्म -  1 मार्च १९७२ को उत्तर प्रदेश के 'एटा' जिले के एक छोटे गावं 'डोर्रा' में 

- 'सहारा समय' के लिए निरंतर तीन वर्ष विश्लेष्णात्मक आलेख | नाट्य समीक्षाएं, व्यंग्य, साक्षात्कार एवं अन्य आलेख मथुरा, आगरा से प्रकाशित अमर उजाला, दैनिक जागरण, आज, डी एल ए आदि में |

कहानियां, समीक्षाएं, कविता, व्यंग्य- हंस, परिकथा, वर्तमान साहित्य, उद्भावना, समर लोक, वागर्थ, अभिव्यक्ति, वांग्मय के अलावा देश भर  की लगभग सभी पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित 

कहानी संग्रह -  "बंद कमरे की रोशनी", "रसीद नम्बर ग्यारह"

सम्पादन- प्रस्फुरण पत्रिका 

संपादक - हमरंग 

फिल्म - जन सिनेमा की फिल्म 'कैद' के लिए पटकथा, संवाद लेखन 

अवार्ड - सविता भार्गव स्मृति सम्मान २०१३, विशम्भर नाथ चतुर्वेदी स्मृति सम्मान २०१४ 

- पूर्व सचिव - संकेत रंग टोली 

सह सचिव - जनवादी लेखक संघ,  मथुरा 

कार्यकारिणी सदस्य - जनवादी लेखक संघ राज्य कमेटी (उत्तर प्रदेश)

संपर्क- 56/56 शहजादपुर सोनई टप्पा, यमुनापार मथुरा २८१००१ 

phone- 08439244335

email- hanifmadar@gmail.com

Blogger Post

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

इंसाफ़ के तक़ाज़े पर इंसाफ़ की बलि : आलेख (ज्योति कुमारी शर्मा)

इंसाफ़ के तक़ाज़े पर इंसाफ़ की बलि : आलेख (ज्योति कुमारी शर्मा)

ज्योति कुमारी 228 2019-12-11

हैदराबाद, उन्नाव, बक्सर, समस्तीपुर और मुजफ्फरपुर में बेटियों को जिंदा जलाने का मामला अभी थमा भी नहीं था कि पश्चिम चंपारण के शिकारपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में ऐसा ही मामला सामने आया है । निश्चित ही यह भारतीय न्याय व्यवस्था, सामाजिकता और लोकतंत्र के लिए अत्यंत शर्मनाक है। किंतु इसके बरअक्स त्वरित न्याय प्रक्रिया में हैदराबाद का पुलिसिया कृत्य भी ऐसी घटनाओं के ख़िलाफ़ कोई आदर्श नहीं माना जा सकता। बल्कि बिना किसी अपराध के साबित होने से पूर्व ही महज़ आरोपित व्यक्ति या व्यक्तियों की भीड़ द्वारा हत्या कर देना या हैदराबाद में पुलिस का ख़ुद मुंसिफ़ बन जाना यक़ीनी तौर पर माननीय भारतीय न्यायालयों और न्याय प्रक्रिया को मुँह चिढ़ाने जैसा है, जो अपराधी और आपराधिक घटना की जाँच, विश्लेषण और अन्वेषण के रास्ते भी एक झटके से बंद कर देता है, फलस्वरूप न्याय व्यवस्था के प्रति सामाजिक भरोसे की जगह सहमा सा संदेह खड़ा होने लगता है । इस सम्पूर्ण घटनाक्रम को सामाजिक और क़ानूनी रोशनी में देखने का प्रयास है, कथाकार और माननीय सर्वोच्च न्यायालय की अधिवक्ता ‘ज्योति कुमारी शर्मा’ का यह आलेख॰॰॰॰॰

फ़िरोज़ी रेखाओं की नीड : कहानी (हुस्न तबस्सुम 'निहाँ')

फ़िरोज़ी रेखाओं की नीड : कहानी (हुस्न तबस्सुम 'निहाँ')

हुश्न तवस्सुम निहाँ 166 2019-12-06

शैफाली का ओहदा क्या बढ़ा उसके कद में खुद ब खुद इजाफा हो गया। प्रेस की ओर से उसे एक स्कूटर भी मिल गई। वेतन भी बढ़ां संपादक संजय वर्मा की नजरें उस पर कुछ ज्यादा मेहरबान रहने लगीं। उसके खाने पीने और प्रेस के कामों का भी काफी ध्याान रखते। जितनी बार काॅफी चाय खुद के लिए मंगवाते उसे भी भिजवाते। खाली समय में उसके केबिन में जा कर गप्पें लड़ाया करते। और ऐसे ही वह नजदीकियों की पराकाष्ठा पार करने का प्रयत्न करने लगे। इस दरम्यान उसका बादल से मिलना जारी रहा। किन्तु बादल, बादल जेसा ही ठण्डा और बेगाना बंजारा सा बना रहा। एक दिन शैफाली संपादक की कुटिल हरकतों से उक्ता कर बड़े आवेश में बादल के पास गई और.................

बंद कमरे की रोशनी  : कहानी (हनीफ़ मदार)

बंद कमरे की रोशनी : कहानी (हनीफ़ मदार)

हनीफ मदार 518 2019-11-21

फ़िरोज़ खान के संस्कृत पढ़ाने को लेकर उठे विवाद के वक़्त में लगभग डेढ़ दशक पहले लिखी इस कहानी को पढ़ते हुए एक ख़ास बात जो स्पष्ट रूप से सामने आती है कि बीते इन वर्षों में भले ही हम आधुनिकता और तकनीकी दृष्टि से बहुत तरक़्क़ी कर गए हैं किंतु यह बिडंबना ही है कि सामाजिक रूप से हमारी मानसिक स्थिति में कोई बदलाव नहीं  आ पाया । जहाँ इधर फ़िरोज़ खान का संस्कृत पढ़ाना राजनैतिक हित-लाभ का अस्त्र बनता जा रहा है वहीं डेढ़ दशक पहले लिखी कहानी का पात्र मास्टर अल्लादीन का संस्कृत पढ़ाना भी वोट की राजनीति को इस्तेमाल होता है॰॰॰॰॰॰एक समुदाय विशेष के द्वारा किसी भी भाषा पर अपनी बपौती समझ, समाज में साम्प्रदायिक लड़ाई- झगड़े करवाकर लोगों के अन्दर अनचाहा भय पैदाकर समाज की शान्ति भंग करके अपनी राजनैतिक रोटियां सेकने वाले वर्ग की नंगी दास्ताँ है "हनीफ़ मदार" की यह कहानी - अनिता चौधरी

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.