राजनीतिक मुखौटों का दस्तावेज: फिल्म गुलाल

राजनीतिक मुखौटों का दस्तावेज: फिल्म गुलाल

एस. तौहीद शहबाज़ 219 2018-11-18

गुलाल में नयी सदी के युवा आंदोलनों को समझने की एक पहल हुई है। फिल्म को देखते वक़्त विश्वविद्यालयों का चुनावी माहौल की फिजाएं याद आती हैं। रैगिंग के भय से नए विद्यार्थियों का नामर्दगी की हद तक सीनिअर्स की हुक्मपरस्ती को दिखाना असहज कर गया…किंतु अबकी कालेज स्तरीय व्यवस्था इससे ग्रसित है ।सीनियर्स की बात ना मानने पर जूनियर्स की पिटाई को ‘रैगिंग’ की जगह गुंडागर्दी कहना चाहिए। जातिगत-क्षेत्रगत-भाषागत आदि समीकरणों से छात्र संगठनों की नींव पडती है। आने वाले कल की नींव पडती है। बडे स्तर की राजनीति में भी इन्हीं चीजों को सबसे ज्यादा भुनाया जाता है। कालेजों में भय व ड्रग एडिक्शन के दम पर युवाओं को गुमराह किया जाता है। भविष्य रचने वालों का कल खतरे में डालने का काम होता है। …….फिल्म गुलाल पर ‘एस तौहीद‘ का समीक्षात्मक आलेख |

‘द वीमेन ऑफ़ क्वेश्चनेबल कैरेक्टर’ “पिंक”: लेख संवाद (अभिषेक प्रकाश)

‘द वीमेन ऑफ़ क्वेश्चनेबल कैरेक्टर’ “पिंक”: लेख संवाद (अभिषेक प्रकाश)

अभिषेक प्रकाश 490 2018-11-15

“हमारे यहां तो लडकियों को जोर से हंसने व छींकने पर भी सोचना पड़ता है। शालीनता का अपना एक सामाजिक पैमाना है। लेकिन अच्छी बात है कि स्त्री विमर्श हमारे घरों के दरवाजों पर दस्तक देने लगा है। पहले सुना करता था जब बजुर्ग अपने अगल-बगल की स्त्रियों को ‘सती-सावित्री’ होने का तमगा बांटा करते थे, लेकिन अब ऐसी कम ही स्त्रियां होंगी जो सती-सावित्री होना चाहेंगी। शायद स्त्रियों को यह बात समझ में आने लगी कि ‘स्त्री पैदा नहीं होती बनाई जाती है। ‘अभिषेक प्रकाश’ की कलम से “पिंक” के बहाने एक लेख संवाद ……..|

जिंदा रहना हर आदमी का अधिकार है: आलेख (एस तौहीद शाहवाज़)

जिंदा रहना हर आदमी का अधिकार है: आलेख (एस तौहीद शाहवाज़)

एस. तौहीद शहबाज़ 217 2018-11-18

“देश की एक बड़ी आबादी गरीबी रेखा के नीचे जिंदगी काट रही, फुटपाथ के लोगों की तक़दीर पहले से कोई बहुत ज्यादा नहीं बदली। हाशिए के लोगों के हांथ अब भी खाली हैं । महंगाई, भ्रष्टाचार व कालाबाजार का ताप सबसे ज्यादा निचली परत को को सदा से बर्दाश्त करना पड़ा है, फुटपाथो पर रहने वालो का सारा दिन बस जिंदा रहने में ही गुज़र जाता है। गरीबी, लाचारी और बेबसी उन्हे हिंसक बना रही है। आसमान छूती महंगाई के लिए भ्रष्टाचार कालाबाजार को बहुत हद तक जिम्मेदार माना जाना चाहिए।मुनाफा और सिर्फ मुनाफे के लिए खडी यह व्यवस्था अहम चीजों की सप्लाई को बाधित कर उनकी कीमतें आसमान पर ले जाती है।” पचास के दशक की फिल्म “फुटपाथ” के बहाने वर्तमान समय का मूल्यांकन करता “एस तौहीद शाहवाज़” का आलेख …

क्या लड़का-लड़की सिर्फ दोस्त नहीं हो सकते?: फिल्म समीक्षा (सैयद एस.तौहीद)

क्या लड़का-लड़की सिर्फ दोस्त नहीं हो सकते?: फिल्म समीक्षा (सैयद एस.तौहीद)

एस. तौहीद शहबाज़ 199 2018-11-18

कॉम्पलेक्स किरदारों की कॉम्पलेक्स कहानी में भावनाओं की यात्रा दिखाने की कोशिश हुई है। संगीत व गानों को फिल्म की कथा का हिस्सा देखना सुखद था। लेकिन प्यार व दोस्ती जैसे सरल सुंदर भाव को उलझन बना देना। कभी न ख़त्म होने वाली जिरह बना देना क्या ज़रूरी था ? भावनात्मक रिश्तों को लेकर हमारे भीतर उलझन क्यों पनप जाती है ? जवाब केवल संकेतों में मिला। अयान के किरदार में रणबीर कपूर रॉकस्टार का संशोधित एक्टेंसन मालूम पड़ रहें जोकि उनके लिए बेहतर ही रहा। इस किस्म के किरदारों को जीने की उनमें खासियत विकसित हो रही । लेकिन जल्द ही विकल्प भी तलाशने होंगे।

क्या एडल्ट कॉमेडी वाकई कूल है..? (एस0 तौहीद शहवाज़)

क्या एडल्ट कॉमेडी वाकई कूल है..? (एस0 तौहीद शहवाज़)

एस. तौहीद शहबाज़ 314 2018-11-18

सिर्फ मनोरंजन के उद्देश्य को लेकर बन रही फिल्मों से परहेज नहीं, किन्तु यह जरुरी नहीं कि वो वाकई मनोरंजन करेंगी | मनोरंजन की परिभाषा को दरअसल निर्माता एवं बाज़ार अपने हिसाब से गढ़ रहे | एक जमाना था जब बी आर इशारा की बोल्ड फ़िल्मों की धूम थी । उनकी फ़िल्म ‘चेतना’ ने एक साथ कई नई बहसों को जन्म दिया था। इनमें फ़िल्मों में सेक्स-चित्रण, यौन-शुचिता और नैतिकता के साथ-साथ सेंसर बोर्ड पर भी सवाल उठाए। लेकिन आज कामेडी में सेक्सुआलिटी का पुट देकर एक नए किस्म के हास्य-व्यंग्य (फूहडता) को रचा गया है । वर्तमान में कॉमेडी के बदलते स्वरूप पर तुलनात्मक अध्ययन करता ‘सैयद एस तौहीद‘ का आलेख ….| – संपादक

मेगा बजट फ्लॉप शो: 2018 सफ़र सिनेमा का, (तेजस पूनिया)

मेगा बजट फ्लॉप शो: 2018 सफ़र सिनेमा का, (तेजस पूनिया)

तेजस पूनिया 759 2018-12-31

बात बीत रहे साल 2018 की करें तो इस साल 117 छोटी-बड़ी फ़िल्में रिलीज हुई । सिलसिलेवार तरीके से देखें तो सबसे अधिक कमाई करने वाली यानी टॉप 10 (दस) फिल्मों में पद्मावत हालांकि दूसरे नंबर पर रही किन्तु इस फिल्म ने हिन्दुस्तान के हर कोने में विवादों की ऐसी आग लगाई की संजय लीला भंसाली साहब ने उसमें अपनी रोटियाँ खूब सेकीं । फिल्मों का बजट और कमाई का गणित अगर देखें तो सिनेमा के वर्तमान समय के बेहतर शोध कर्त्ता ‘अमित कर्ण’ के द्वारा किए गए शोध से हम इसे और बेहतर तरीके से समझ सकते हैं –

वर्ष 2018 की विदाई पर भारतीय हिंदी सिनेमा पर एक नज़र डाल रहे हैं 'तेजस पूनिया'

परसाई की प्रासंगिकता और जाने भी दो यारो: आलेख (‘प्रो0 विजय शर्मा’)

परसाई की प्रासंगिकता और जाने भी दो यारो: आलेख (‘प्रो0 विजय शर्मा’)

विजय शर्मा 1221 2018-11-18

“हमारा देश अजीब प्रगति के पथ पर है। मूल्य से मूल्यहीनता और आदर्श से स्वार्थपरता की ओर, नैतिकता से अनैतिकता की ओर बड़ी तेजी से दौड़ लगा रहा है। परसाई की दृष्टि इस पर शुरु से अंत तक रही। ‘जाने भी दो यारों’ का श्याम हास्य (ब्लैक ह्यूमर) भारतीय राजनीति, ब्यूरोक्रेसी, मीडिया, व्यापार लोगों को हँसने पर मजबूर करता है साथ ही करुणा जगाता है। परसाई के पास सूक्ष्म आलोचना दृष्टि है। वे पुलिस-प्रशासन तंत्र की गिरी हुई छवि को निशाना बनाते हैं। ‘मातादीन चाँद पर’ का मातादीन चाँद की पुलिस को सभ्यता-संस्कृति का पाठ पढ़ाने जाता है। चाँद की पुलिस को भ्रष्टाचार के सारे पाठ पढ़ा कर एसपी की घरवाली के लिए एड़ी चमकाने का पत्थर चाँद से लाता है।”

दादा साहेब फ़ाल्के: भारतीय सिनेमा के अमिट हस्ताक्षर (एस तौहीद शहबाज़)

दादा साहेब फ़ाल्के: भारतीय सिनेमा के अमिट हस्ताक्षर (एस तौहीद शहबाज़)

एस. तौहीद शहबाज़ 213 2018-11-18

फ़ाल्के के जीवन मे फ़िल्म निर्माण से जुडा रचनात्मक मोड सन 1910 ‘लाईफ़ आफ़ क्राईस्ट’ फ़िल्म को देखने के बाद आया, उन्होने यह फ़िल्म दिसंबर के आस-पास ‘वाटसन’ होटल मे देखी | वह फ़िल्म अनुभव से बहुत आंदोलित हुए और इसके बाद उस समय की और भी फ़िल्मों को देखा | फ़िल्म बनाने की मूल प्रेरणा फ़ाल्के को ‘क्राईस्ट का जीवन’ देखने मिली, फ़िल्म को देखकर उनके मन मे विचार आया कि –क्या भारत मे भी इस तर्ज़ पर फ़िल्म बनाई जा सकती हैं? फ़िल्म कला को अपना कर उन्होने प्रश्न का ठोस उत्तर दिया |फ़िल्म उस समय मूलत: विदेशी उपक्रम था और फ़िल्म बनाने के अनिवार्य तकनीक उस समय भारत मे उपलब्ध नही थी ,फ़ाल्के सिनेमा के ज़रुरी उपकरण लाने लंदन गए | लंदन मे उनकी मुलाकात जाने-माने निर्माता और ‘बाईस्कोप’ पत्रिका के सम्पादक सेसिल हेपवोर्थ से हुई फिर दादा साहेब फ़ाल्के ने फ़िल्म में अपना तन,मन,धन लगाने की पहल की | उस कठिन समय में वे इस ओर उन्मुख हुए, जब फ़िल्म उद्योग के लिए परिस्थितियां प्रतिकूल थी | बुद्धिजीवी,शिक्षित और आम लोग सभी फ़िल्मों के भविष्य को लेकर बेहद ऊहापोह में थे एवं इससे दूरी बनाए हुए थे, इससे जुडी शंका के बादल लोगों के मन पर हावी थे | फ़ाल्के की आशातीत सफ़लता ने इस पर विराम लगाया, लोग फ़िल्म जगत से जुडे और इसमे रोज़गार का अवसर पाया | हाल ही में 30 अप्रैल को दादा साहेब फ़ाल्के का जन्म दिवस रहा इस मौके पर भारतीय सिने जगत में फाल्के की भूमिका को व्याख्यायित करता ‘सैयद एस तौहीद‘ का आलेख

‘गांधी ने कहा था’: नाट्य समीक्षा (एस तौहीद शहबाज़)

‘गांधी ने कहा था’: नाट्य समीक्षा (एस तौहीद शहबाज़)

एस. तौहीद शहबाज़ 349 2018-11-18

साम्प्रदायिकता का ख़बर बन जाना ख़तरनाक नहीं है, ख़तरनाक है ख़बरों का साम्प्रदायिक बन जाना। देश में विभिन्न समुदायों में तमाम तनावों और असहज हालातों के बीच राजेश कुमार का नाटक ‘गांधी ने कहा था’ हमेशा प्रासंगिक रहेगा । जनवादी नाटककार राजेश कुमार नुक्कड़ नाटक आंदोलन के शुरुआती दौर से सक्रिय है। कथा सांप्रदायिकता की आईने में ‘संतान’ खो चुके तार्केश्वर एवं माता-पिता खो चुके आफ़ताब को एक सुत्र में पिरोने का सुंदरतम उदाहरण है । राजेश कुमार का नाटक ‘ गांधी ने कहा था’ हमसे गांधीवादी विचारों पर गंभीरता से मंथन करने की अपील करता है । सांप्रदायिकता की रोकथाम एवम परस्पर सदभाव स्थापित करने में बापू के विचार बहुत कारगर हैं।

भूमिका: सिनेमा की भाषा में: आलेख

भूमिका: सिनेमा की भाषा में: आलेख

विजय शर्मा 408 2018-11-18

“पिछली सदी के चालीस और पचास के दशक में मराठी मंच और फ़िल्म की प्रसिद्ध अभिनेत्री हंसा वाडेकर ने पत्रकार अनिल साधु के साथ मिल कर अपनी जीवनी लिखी। मराठी में इस आत्मकथा का शीर्षक ‘सांगत्ये आएका’ (सुनो और मैं कहती हूँ) है। हंसा ने बहुत बेबाक तरीके से इस आत्मकथा में अपने जीवन को कागज पर खोल कर रख दिया था। हंसा की इसी आत्मकथा को आधार बना कर बेनेगल ने ‘भूमिका’ फ़िल्म बनाई। चूँकि वे मराठी परिवेश से पूरी तरह परिचित नहीं थे अत: उन्होंने पटकथा लेखन के लिए अपने अलावा गिरीश कर्नाड तथा सत्यदेव दूबे का साथ लिया। फ़िल्म ‘भूमिका’ की कहानी एक तरह से शाश्वत है। स्त्री का परिवार-समाज द्वारा शोषण। हम कथानक की ज्यादा बात न करके फ़िल्म की भाषा की बात अधिक करेंगे। फ़िल्म में उषा एक जन्मजात कलाकार है। वह देवदासी परिवार से आती है। बचपन में उसने अपनी नानी से संगीत की शिक्षा ली है, अभिनय उसकी रग-रग में समाया हुआ है। वह मंच और फ़िल्म में अभिनय करके खूब शौहरत और पैसा पाती है। गाने के लिए ही वह पेशेगत रूप से काम शुरु करती है, अभिनेत्री बाद में बनती है। जीवन से लबालब भरी यही उषा जब शूटिंग के बाद स्टूडियो बाहर निकलती है, घर लौटती है तो उसकी द्विविधा और बेबसी का नजारा दर्शक को मिलता है। फ़िल्म में कुछ भी अनावश्यक नहीं होना चाहिए। उषा जब स्टूडियो से बाहर निकल रही है तो उसी की एक फ़िल्म ‘अग्नि परीक्षा’ का पोस्टर उठा कर कुछ लोग ले जा रहे हैं। घर जा कर उसे अग्नि परीक्षा से गुजरना है। वह दोहरी जिंदगी जीती है, कई भिन्न भूमिकाएँ उसे करनी होती हैं। फ़िल्म की भाषा निर्देशक के विचार होते हैं, जिन्हें वह कैमरे की आँख, साउंड तथा संगीत के माध्यम से प्रस्तुत करता है। जहाँ बिना संवाद बोले विचारों, भावनाओं, दृष्टिकोण को प्रकट किया जाता है।” ‘भूमिका‘ के संदर्भ में सिनेमा के तकनीकी व् वैचारिक पक्ष पर विस्तृत चर्चा करता ‘प्रो0 विजय शर्मा‘ का आलेख …….

हाल ही में प्रकाशित

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.